PSEB 8th Class Hindi Vyakaran संज्ञा

Punjab State Board PSEB 8th Class Hindi Book Solutions Hindi Grammar Sangya संज्ञा Exercise Questions and Answers, Notes.

PSEB 8th Class Hindi Grammar संज्ञा

प्रश्न 1.
संज्ञा की परिभाषा लिखो और उसके भेद बताओ।
अथवा
संज्ञा किसे कहते हैं ? उसके कितने भेद हैं ?
उत्तर:
किसी व्यक्ति, स्थान, वस्तु, जाति, गुण या भाव का बोध कराने वाले शब्द को संज्ञा कहते हैं; जैसे-राम, कृष्ण, दिल्ली, सिंह, पुस्तक, गर्मी, सुन्दरता, दया आदि।
संज्ञा के तीन भेद हैं-
(1) व्यक्तिवाचक
(2) जातिवाचक
(3) भाववाचक।
1. व्यक्तिवाचक : जो शब्द किसी विशेष व्यक्ति, स्थान आदि का बोध कराए, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं; जैसे-कृष्ण, दिल्ली, गंगा आदि।
2. जातिवाचक : जो शब्द किसी सम्पूर्ण जाति का बोध कराए, उसे जातिवाचक संज्ञा कहा जाता है; जैसे-स्त्री, पुरुष, पशु, नगर आदि।
3. भाववाचक : जो शब्द किसी धर्म, अवस्था, भाव, गुण, दोष आदि प्रकट करे, उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं; जैसे-मिठास, मानवता, सत्यता आदि।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran संज्ञा

प्रश्न 2.
भाववाचक संज्ञा का निर्माण किस प्रकार होता है ?
उत्तर:
भाववाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया-विशेषण और निरर्थक शब्द से बनती है।
(i) जातिवाचक संज्ञा से मनुष्य से मनुष्यता, शिशु से शैशव, लड़का से लड़कपन आदि।
(ii) सर्वनाम से-अपना से अपनापन, सर्व से सर्वस्व, स्व से स्वत्व, अहं से अहंकार आदि।
(iii) विशेषण से-अच्छा से अच्छाई, सुन्दर से सौन्दर्य, भला से भलाई, उष्ण से उष्णीय आदि।
(iv) क्रिया से:-दौड़ना से दौड़, हँसना से हँसी, हँसाई, लड़ना से लड़ाई, पुकारना से पुकार, सजाना से सजावट आदि।
(v) क्रिया-विशेषण से-दूर से दूरी, समीप से समीपता, शीघ्र से शीघ्रता आदि।
(vi) निरर्थक शब्दों से-चरचराहट, सरसराहट, भिनभिनाहट आदि।

प्रश्न 3.
जातिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
जातिवाचक संज्ञा-जो शब्द किसी सम्पूर्ण जाति का बोध कराए, उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं; जैसे-स्त्री, पुरुष, पशु, नगर आदि।

प्रश्न 4.
व्यक्तिवाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा कैसे बन जाती है ? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग सदा एकवचन में होता है, परन्तु जब कोई व्यक्तिवाचक संज्ञा व्यक्ति विशेष का बोध न करा कर उस व्यक्ति जैसे गुणों या दोषों से युक्त अनेक व्यक्तियों का बोध कराती है तब वह व्यक्तिवाचक न रहकर जातिवाचक हो जाती है; जैसे-विभीषणों से बचकर रहो।

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
नीचे लिखे वाक्यों में से संज्ञा शब्द चुनकर लिखें
(क) राम पढ़ता है।
(ख) खिलाड़ी खेलता है।
(ग) गाय घास चरती है।
(घ) सिंह दहाड़ता है।
(ङ) पक्षी उड़ते हैं।
उत्तर:
(क) राम
(ख) खिलाड़ी
(ग) गाय, घास
(घ) सिंह
(ङ) पक्षी।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran संज्ञा

प्रश्न 2.
नीचे लिखे वाक्यों में से भाववाचक संज्ञा चुनकर लिखें
(क) शीला की पढ़ाई कैसी चल रही है।
(ख) यह जानकर मुझे प्रसन्नता हुई।
(ग) सुंदरता एक आभूषण है।
(घ) हमेशा सच्चाई की जीत होती है।
(ङ) आवश्यकता आविष्कार की जननी है।
(च) निर्धनता उसका रास्ता रोक रही थी।
उत्तर:
(क) पढ़ाई
(ख) प्रसन्नता
(ग) सुंदरता
(घ) सच्चाई
(ङ) आवश्यकता
(च) निर्धनता।

प्रश्न 3.
नीचे लिखे वाक्यों की भाववाचक संज्ञाएँ बदलो-
उत्तर:
(क) गन्ना मीठा होता है। – गन्ने में मिठास होती है।
(ख) हर व्यक्ति अच्छा होना चाहिए। – हर व्यक्ति में अच्छाई होनी चाहिए।
(ग) फूल बहुत सुंदर है। – फूल में बहुत सुंदरता है।
(घ) मनुष्य को कृतघ्न नहीं होना चाहिए। – मनुष्य में कृतघ्नता नहीं होनी चाहिए।
(ङ) यह बात उचित है। – इस बात में औचित्य है।
(च) हमारे देश में विषम परिस्थितियाँ हैं। – हमारे देश में विषमता पूर्ण परिस्थितियाँ हैं।
(छ) कच्चा आम खट्टा होता है। – कच्चे आम में खटास होती है।
(ज) देश में अनेक प्राकृतिक स्रोत हैं। – देश में प्राकृतिक स्रोतों की अनेकता है।
(झ) वह बड़ा कुरूप आदमी है। – उस आदमी में बड़ी कुरूपता है।
(ञ) सत्य एक उत्तम गुण है। – सत्यता एक उत्तम गुण है।
(ट) साँप एक मीटर लम्बा था। – साँप की लम्बाई एक मीटर थी।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

Punjab State Board PSEB 12th Class Hindi Book Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 12 Hindi Chapter 12 धर्मवीर भारती

Hindi Guide for Class 12 PSEB 12 धर्मवीर भारती Textbook Questions and Answers

(क) लगभग 40 शब्दों में उत्तर दो:

प्रश्न 1.
‘बाँध बाँधना’ निर्माण योजना का प्रथम चरण है। कवि किस प्रकार का बाँध बाँधकर कौन-सी शक्ति पैदा करना चाहता है ?
उत्तर:
नदियों के जल पर बाँध बाँधने से बिजली पैदा होती है। सिंचाई आदि के लिए काम में आती है। किन्तु कवि तो घृणा की नदी पर बाँध बाँधने अर्थात् रोकने की बात कहता है क्योंकि इससे जो शक्ति बनती है वह आग की तरह भस्म कर देने वाली है। यदि इस शक्ति को नियन्त्रित कर लिया जाए तो यह लाभकारी भी हो सकती है। घृणा को यदि आपसी सहयोग और सहानुभूति की भावना में बदल दिया जाए तो वह एक शक्ति बन सकती है जो जनकल्याण में सहायक सिद्ध हो सकती है।

प्रश्न 2.
‘यातायात’ में स्वच्छन्द विचारधारा को फलने-फूलने का मौका देने की बात की गई है-इसे स्पष्ट करें।
उत्तर:
कवि का मानना है यातायात की सुविधाएँ तभी साकार हो सकती हैं जब जीवन की राह में चलते हुए निराश हुए व्यक्ति को उसे उसकी इच्छानुसार नए गीतों को रचने और अपने विचारों को बिना किसी रोक-टोक के अभिव्यक्त करने की सुविधा प्राप्त हो जाए। तभी यातायात की उन्नति के लिए चलाई जा रही योजनाएँ सफल हो सकेंगी।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

प्रश्न 3.
‘कृषि’ में कवि ने विषमता रूढ़िवादिता की फसलें काटने की बात की है ? कवि किस प्रकार की खेती करना चाहता है और कैसे ? स्पष्ट करें।
उत्तर:
कवि का मानना है कि हमारे बुजुर्गों ने जाने अनजाने जो विषमता और असमानता की फसलें बोई थीं। इन्हें काटना चाहिए क्योंकि इन्होंने समाज के दामन को तार-तार कर डाला है। उसकी जगह हमें आपसी प्रेम-प्यार, हमदर्दी, सुख-दुःख बाँटने की फसलें बोनी चाहिएँ क्योंकि भूमि सबकी है और दर्द सबका साँझा है।

प्रश्न 4.
‘स्वास्थ्य’ में भारती जी ने निर्माण योजना के अन्तिम चरण के रूप में अहम् के शिकार रोगियों के लिए अस्पतालों की व्यवस्था करने की बात की है। कवि का विचार स्पष्ट करें।
उत्तर:
कवि के मतानुसार निर्माण योजना तभी सफल हो सकती है जब हमारा नेता वर्ग स्वस्थ हो और वह स्वस्थ समाज का निर्माण कर सके और अतः समाज को चाहिए कि नेता वर्ग की इस बीमारी-अहम् की बीमारी का इलाज करने के लिए नए अस्पताल खोलने चाहिए अर्थात् ऐसे उपयुक्त वातावरण का निर्माण करना चाहिए जिससे हमारा नेता वर्ग स्वस्थ होकर देश की सेवा कर सके और देश को उन्नति और विकास के मार्ग पर आगे ले जा सके।

प्रश्न 5.
‘निर्माण योजना’ कविता का सार लिखो।
उत्तर:
‘सात गीत वर्ष’ काव्य संग्रह में संकलित ‘निर्माण योजना’ कविता में कवि ने निर्माण योजना को बाँध, यातायात, कृषि तथा स्वास्थ्य चार भागों में विभक्त किया है। बाँध शीर्षक कविता में कवि घृणा की नदी पर बाँध बनाने की बात कही है ताकि उससे पैदा होने वाली शक्ति हानिकारक न होकर लाभकारी सिद्ध हो सके। घृणा को आपसी प्रेम प्यार, हमदर्दी में बदला जाना चाहिए।

‘यातायात’ कविता में कवि ने मानव को, किसान को, कवि को मन मुताबिक चलने की सुविधा प्राप्त करने की बात कही है ताकि वे सब देश की उन्नति और विकास में योगदान दे सकें।

कृषि शीर्षक कविता में कवि ने समाज में उत्पन्न भेदभाव की फसलों को काटकर ऐसी खेती करने की सलाह देता है जिसमें आपसी प्रेम प्यार हो, आपसी सुख-दुःख बाँटने की बात हो, जिससे यह संसार, यह धरती फिर से हरी भरी हो जाए। क्योंकि धरती सबकी साँझी है और दर्द भी सबका साँझा होना चाहिए।
‘स्वास्थ्य’ शीर्षक कविता में कवि नेता वर्ग के अहम्भाव पर व्यंग्य करते हुए कहता है कि जिस तरह से नेता लोग मंच पर जाकर भाषण देते हैं और व्यर्थ की बातें करते हैं उनसे लगता है कि वे अहम् रोग से पीड़ित हैं। समाज को ऐसा वातावरण तैयार करना चाहिए जिससे नेता वर्ग का यह रोग दूर हो सके और वे भी देश के लिए समाज के लिए हितकारी काम कर सकें।

(ख) सप्रसंग व्याख्या करें:

प्रश्न 6.
बाँधो …. घृणा की है।
उत्तर:
कवि कहता है कि यह घृणा की नदी है काली चट्टानों की छाती चीर कर फूट निकली है और इसका गवाह अन्धकारमय विषैली गुफाओं में से उबल-कर बाहर आया है। नदी के इस भयानक प्रवाह को बाँधने की आवश्यकता है। ऐसी नदी पर ही हमें बाँध बाँधना चाहिए।

यह घृणा की नदी है अतः आग की तरह भस्म कर देने की शक्ति इसमें है। यदि इसे बढ़ने दिया गया तो इसकी लपेट में आकर बड़े-बड़े और हरे-भरे पेड़ भी जलकर राख का ढेर हो जाएंगे। केवल इतना जान लेने से कि यह घृणा की नदी है, यह बेमतलब नहीं है यदि इस को बाँध लिया जाए अर्थात् इस पर काबू पा लिया जाए तो यही नदी लाभकारी भी सिद्ध हो सकती है।

प्रश्न 7.
ये फसलें ………. दर्द सबका है।
उत्तर:
कवि धरती को, समाज को सुधारने के लिए भेदभाव पैदा करने वाले विचारों को दूर कर, आपसी भाईचारा, प्रेम, प्यार एवं एक-दूसरे से सहानुभूति पैदा करने का सन्देश देता हुआ कहता है कि जाने अनजाने हमारे पूर्वजों ने समाज के विभिन्न वर्गों में भेदभाव उत्पन्न करने की जो भावना भरी थी, समाज की भलाई के लिए हमें उस विषैली खेती को काट देना चाहिए भाव यह है समाज का, व्यक्ति का कल्याण इन भावनाओं को नष्ट करने में ही है बल्कि हमें तो आज मेहनत के, समान दुःख की भावना के, आपसी प्रेम प्यार के, एक दूसरे से सहानुभूति रखने वाले भावों को बढ़ावा देना चाहिए। हमें ऐसी सीमाएँ नहीं बाँधनी हैं जिससे समाज विभिन्न वर्गों में बँट जाए बल्कि इसके विपरीत कार्य करना चाहिए क्योंकि यह धरती सबकी है, दर्द सबके साँझे हैं।

PSEB 12th Class Hindi Guide धर्मवीर भारती Additional Questions and Answers

अति लघुत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
डॉ० धर्मवीर भारती का जन्म कब और कहाँ पर हुआ था?
उत्तर:
डॉ० भारती का जन्म 25 दिसम्बर, सन् 1926 में इलाहाबाद में हुआ था।

प्रश्न 2.
डॉ० भारती ने किस हिंदी पत्रिका का संपादन कार्य किया था?
उत्तर:
साप्ताहिक धर्मयुग।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

प्रश्न 3.
डॉ० भारती के द्वारा रचित दो रचनाओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
अंधायुग, कनुप्रिया।

प्रश्न 4.
‘निर्माण योजना’ कविता के कितने अंश हैं?
उत्तर:
चार।

प्रश्न 5.
‘निर्माण योजना’ के अंशों के नाम लिखिए।
उत्तर:
बाँध, यातायात, कृषि, स्वास्थ्य।

प्रश्न 6.
कवि ने काली चट्टानों से निकली नदी को क्या नाम दिया है ?
उत्तर:
घृणा की नदी।

प्रश्न 7.
घृणा की नदी के छते ही कौन सड़ जाएंगे?
उत्तर:
हरे-भरे वृक्ष सड़ जायेंगे।

प्रश्न 8.
घृणा की नदी में कौन सोये हुए हैं ?
उत्तर:
बिजली के शक्तिवान घोड़े सोये हुए हैं।

प्रश्न 9.
कवि ने पसीने से सींची हुई फसलों को कहाँ से लेकर कहाँ तक पहुंचाने की सुविधा मांगी है?
उत्तर:
खेतों से आंतों तक।

प्रश्न 10.
अतीत में कैसे बीज समाज में बोये गए थे?
उत्तर:
विषमता/भेदभाव के बीज समाज में बोये गए थे।

प्रश्न 11.
लेखक ने आज के सभी नेताओं को क्या माना है?
उत्तर:
लेखक ने उन्हें रोगी माना है जो अहम् से पीड़ित हैं।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

प्रश्न 12.
‘निर्माण योजना’ किस संकलन से ली गई है?
उत्तर:
‘सात गीत वर्ष’ से।

वाक्य पूरे कीजिए

प्रश्न 13.
इनके छूते ही……..
उत्तर:
हरे वृक्ष सड़ जायेंगे।

प्रश्न 14.
इनकी लहरों में…………..
उत्तर:
बिजली के शक्तिवान घोड़े हैं सोये हुए।

प्रश्न 15.
सिंची हुई फसलों को………………।
उत्तर:
खेतों से आंतों तक जाने की सुविधा दो।

प्रश्न 16.
बस्ती-बस्ती में………..।
उत्तर:
नये अहम् के अस्पताल खुलवाओ।

हाँ-नहीं में उत्तर दीजिए

प्रश्न 17.
कवि ने बीमार राजनीति पर अपनी चिंता व्यक्त की है।
उत्तर:
हाँ।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. धर्मवीर भारती किस पत्रिका के संपादक रहे ?
(क) धर्मात्मा
(ख) धर्मयग
(ग) धर्म
(घ) धर्माधिकारी।
उत्तर:
(ख) धर्मयग

2. धर्मवीर भारती को भारत सरकार ने किस सम्मान से अलंकृत किया ?
(क) पद्मश्री
(ख) पद्मभूषण
(ग) पद्मविभूषण
(घ) पद्मालंकार।
उत्तर:
(क) पद्मश्री

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

3. ‘निर्माण योजना’ कविता के कितने अंश हैं ?
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार
उत्तर:
(घ) चार

4. कवि के अनुसार अतीत में समाज में कैसे बीज बोये गये थे ?
(क) विषमता
(ख) अविषमता
(ग) घृणा
(घ) अंतर।
उत्तर:
(क) विषमता

धर्मवीर भारती सप्रसंग व्याख्या

बांध

1. बाँधो।
नदी यह घृणा की है
काली चट्टानों के
सीने से निकली है
अन्धी जहरीली गुफाओं से
उबली है।
इसको छते ही
हरे वृक्ष सड़ जायेंगे
नदी यह घृणा की है।
लेकिन नहीं है निरर्थक यह
बँधने से इसको भी अर्थ मिल जाता है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
घृणा = नफरत। सीना = छाती। जहरीली = विषैली। निरर्थक = व्यर्थ, बेमतलब।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश श्री धर्मवीर भारती जी द्वारा लिखित काव्य संग्रह ‘सात गीत वर्ष’ में संकलित ‘निर्माण योजना’ शीर्षक के अन्तर्गत लिखी कविता ‘बाँध’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद देश की आर्थिक अवस्था को सुधारने के लिए कई निर्माण योजनाओं पर कार्य चल रहा है। नदियों पर बाँध बाँधे जा रहे हैं जिससे जल को, सिंचाई के लिए और बिजली पैदा करने के लिए. प्रयोग में लाया जा सके।

कवि ने यहाँ किसी प्राकृतिक नदी पर बाँध बाँधने की आवश्यकता पर बल नहीं दिया बल्कि मानव मात्र में एक दूसरे के प्रति जो घृणा भाव पैदा हो गया है उसके भयानक प्रवाह पर मानव को बाँध लगाने की अर्थात् उस पर नियन्त्रण पाने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहता है कि यह घृणा की नदी है काली चट्टानों की छाती चीर कर फूट निकली है और इसका गवाह अन्धकारमय विषैली गुफाओं में से उबल-कर बाहर आया है। नदी के इस भयानक प्रवाह को बाँधने की आवश्यकता है। ऐसी नदी पर ही हमें बाँध बाँधना चाहिए।

यह घृणा की नदी है अतः आग की तरह भस्म कर देने की शक्ति इसमें है। यदि इसे बढ़ने दिया गया तो इसकी लपेट में आकर बड़े-बड़े और हरे-भरे पेड़ भी जलकर राख का ढेर हो जाएंगे। केवल इतना जान लेने से कि यह घृणा की नदी है, यह बेमतलब नहीं है यदि इस को बाँध लिया जाए अर्थात् इस पर काबू पा लिया जाए तो यही नदी लाभकारी भी सिद्ध हो सकती है।

विशेष:

  1. कवि का तात्पर्य यह है संसार में कुछ अच्छा या बुरा नहीं होता उसके अच्छा या बुरा होने की कसौटी उसके सद्पयोग अथवा मानवीय हित सापेक्ष होने में है।
  2. भाषा भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है।

2. इसकी ही लहरों में ।
बिजली के शक्तिवान घोड़े हैं सोये हुए।
जोतो उन्हें खेतों में, हलों में
भेजो उन्हें नगरों में, कलों में
बदलो घृणा को उजियाले में
ताकत में,
नये-नये रूपों में साधो
बाँधो
नदी यह घृणा की है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
शक्तिवान घोड़े = यहाँ भाव हार्स पावर से है। साधो = सिद्ध करो, बदलो।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ धर्मवीर भारती द्वारा रचित कविता निर्माण योजना के प्रथम खंड बांध से ली गई हैं, जिसमें कवि ने घृणारूपी नदी पर बाँध बनाकर (प्रेम की सरिता)बहाने का संदेश दिया है।

व्याख्या:
कवि घृणा का सद्पयोग कर उसे मानवीय हित सापेक्ष बनाने की सलाह देता हुआ कहता है कि-कौन नहीं जानता कि नदी के प्रवाह में बिजली के शक्तिशाली घोड़ों की ताकत छिपी हुई है उस ताकत का प्रयोग हम खेतों में, हल जोतने में, नगरों में, कल कारखानों में प्रयोग कर सकते हैं कवि का संकेत जल से प्राप्त ऊर्जा की ओर है। कवि संदेश देते हुए कहता है कि उस ऊर्जा रूपी घृणा को हम उजाला पैदा करने वाली बना सकते है। उसकी शक्ति को हम विभिन्न रूपों में विकसित कर सकते हैं जिससे मानवता का कल्याण हो सके। अतः इस घृणा की नदी को स्वतन्त्र मत छोड़ो। इस पर नियन्त्रण करो। इस पर ऐसा बाँध बनाओ जो कल्याणकारी हो न कि विनाशकारी।

विशेष:

  1. कवि का तात्पर्य यह है कि यदि हम घृणा के वश में हो जाएँगे तो यह मनोवृत्ति विनाशकारी हो जाएगी और यदि हम इसे अपने वश में कर लेंगे तो यह हमारे लिए कल्याणकारी बन जाएगी।
  2. भाषा भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है। पुनरुक्ति प्रकाश तथा रूपक अलंकार हैं।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

यातायात

1. बिना किसी बाधा के
नित नयी दिशाओं में
जाने की
सुविधा दो
बिना किसी बाधा के
श्रम के पसीने से
सिंची हुई फसलों को
खेतों से आंतों तक जाने की सुविधा दो।

कठिन शब्दों के अर्थ:
बाधा = रुकावट। सविधा = सहूलियत। श्रम = मेहनत।

प्रसंग;
प्रस्तुत पद्यांश श्री धर्मवीर भारती जी की काव्यकृति ‘सात गीत वर्ष’ में संकलित ‘निर्माण योजना’ शीर्षक के अन्तर्गत लिखी कविता ‘यातायात’ में से लिया गया है। देश में स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात् आर्थिक विकास के लिए अनेक निर्माण योजनाओं को शुरू किया गया जिनमें यातायात के क्षेत्र में भी विकास के लिए अनेक योजनाएं शुरू की गयी हैं किन्तु कवि का मानना है कि ‘यातायात’ केवल ट्रैफिक अथवा वाहनों की सुकर और सुविधापूर्वक गमन-आगमन की सुविधा नहीं, अपितु प्राप्त अवसरों के अधिकतम और आरोपित बँधनों से रहित, बन्धनहीन प्रयोग से है।

व्याख्या:
कवि सब के लिए आवागमन की सुविधाओं के लिए कहता है कि प्रत्येक व्यक्ति को यह पूरी सुविधा प्राप्त होनी चाहिए कि वह जिस भी नयी दिशा की ओर आगे बढ़ना चाहे उसे उस पर चलने के लिए बढ़ने के लिए कोई रुकावट नहीं आनी चाहिए। समाज में ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि जो किसान अपनी मेहनत के पसीने से अपनी फसलों को सींचता है। उन फसलों की पैदावार बिना किसी रोक-टोक के उसके पेट की आँतों तक पहुँच कर उसकी भूख मिटा सके। यह न हो कि सारे समाज की भूख मिटाने वाला, अन्न उपजाने वाला किसान स्वयं भूखा रहे।

विशेष:

  1. कवि सब के लिए समान तथा स्वच्छन्द विचरण की सुविधाएँ चाहता है।
  2. भाषा भावपूर्ण एवं प्रतीकात्मक है। अनुप्रास अलंकार है।

2. बिना किसी बँधन के
हर चलते राही को
यात्रा में
अक्सर थक जाने पर
मनचाहे नये गीत गाने की
सुविधा दो
कभी कभी अजब सी रहस्यमयी पुकारों पर
मन को अपरिचित नक्षत्रों की राहों में
जाकर खो जाने की सुविधा दो।

कठिन शब्दों के अर्थ:
अक्सर = प्रायः । अजब सी = विचित्र सी।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश श्री धर्मवीर भारती द्वारा रचित कविता ‘निर्माण योजना’ के यातायात खंड से ली गई हैं, जिसमें कवि सब के लिए स्वच्छन्द विचरण की कामाना की हैं।

व्याख्या:
कवि कहता है कि कोई भी व्यक्ति जीवन की राह पर चलते हुए जब कभी थक जाए अर्थात् निराश हो जाए तो उसे बिना किसी बन्धन के मनचाहे नये गीत गाने की सहूलियत होनी चाहिए और जब कभी रहस्यमयी विचित्र-सी पुकारों को सुनकर व्यक्ति का मन अनजाने नक्षत्रों की राहों पर बढ़ने के लिए लालायित हो उठे, तो उसे ऐसा करने की सुविधा मिलनी चाहिए।

विशेष:

  1. कवि ने अनुसंधान करने वाले वैज्ञानिकों को पर्याप्त सुविधा प्रदान करने की बात कही है जिससे वे अपने देश की ही नहीं समूची मानवता की सेवा कर सकें।
  2. भाषा भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है। पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।

कृषि

ये फसलें काटो ……………
पिछले जमाने में
बीज जो बोये विषमता के
आज वहाँ साँपों की खेती उग आई है।
धरती को फिर से सँवारो
क्यारी में बीज नये डालो
पसीने के, आँसू के,
प्यार के, हमदर्दी के,
मेंड़ें मत बाँधो,
भूमि सबकी
दर्द सबका है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
जमाने में = युग में, समय में। विषमता = भेद-भाव। हमदर्दी = सहानुभूति। मेंहें = खेत की हदबन्दी, सिंचाई के लिए खेत में बनाया गया मिट्टी का घेरा, यहाँ भाव अवरोध या रुकावट खड़ी करने से है।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश श्री धर्मवीर भारती द्वारा लिखित काव्य संग्रह ‘सात गीत वर्ष’ में संकलित ‘निर्माण योजना’ शीर्षक के अन्तर्गत लिखी ‘कृषि’ कविता से लिया गया है, जिसमें कवि उन भेदभावों और असमानताओं की फसलों को काटने का आह्वान करता है जिन्हें जाने अनजाने हमारे पूर्वजों ने बो दिया था और जिसने समाज के दामन को तार-तार कर दिया है। अतः अब हमारे सामने एकमात्र यही एक रास्ता है कि उन फसलों को काट कर परिश्रम, प्यार और हमदर्दी की फसल के बीज बोये जायें क्योंकि भूमि सबकी है और दर्द भी सबका साँझा है।

व्याख्या:
कवि धरती को, समाज को सुधारने के लिए भेदभाव पैदा करने वाले विचारों को दूर कर, आपसी भाईचारा, प्रेम, प्यार एवं एक-दूसरे से सहानुभूति पैदा करने का सन्देश देता हुआ कहता है कि जाने अनजाने हमारे पूर्वजों ने समाज के विभिन्न वर्गों में भेदभाव उत्पन्न करने की जो भावना भरी थी, समाज की भलाई के लिए हमें उस विषैली खेती को काट देना चाहिए भाव यह है समाज का, व्यक्ति का कल्याण इन भावनाओं को नष्ट करने में ही है बल्कि हमें तो आज मेहनत के, समान दुःख की भावना के, आपसी प्रेम प्यार के, एक दूसरे से सहानुभूति रखने वाले भावों को बढ़ावा देना चाहिए। हमें ऐसी सीमाएँ नहीं बाँधनी हैं जिससे समाज विभिन्न वर्गों में बँट जाए बल्कि इसके विपरीत कार्य करना चाहिए क्योंकि यह धरती सबकी है, दर्द सबके साँझे हैं।

विशेष:

  1. कवि ने समस्त प्रकार के भेदभावों को मिटाकर कर समतावादी समाज की स्थापना की कामना की है।
  2. भाषा तत्सम प्रधान, भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 12 धर्मवीर भारती

स्वास्थ्य

वे सब बीमार हैं,
वे जो उन्मादग्रस्त रोगी से
मंचों पर जाकर चिल्लाते हैं
बकते हैं
भीड़ में भटकते हैं
वात पित्त कफ़ के बाद
चौथे दोष अहम् से पीड़ित हैं।
बस्ती-बस्ती में
नये अहम् के अस्पताल खुलवाओ।
वे सब बीमार हैं।
डरो मत-तरस खाओ।

कठिन शब्दों के अर्थ:
उन्मादग्रस्त = पागलपन।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश श्री धर्मवीर भारती के काव्य संग्रह ‘सात गीत वर्ष’ में ‘निर्माण योजना’ शीर्षक के अन्तर्गत रचित ‘स्वास्थ्य’ कविता से लिया गया है। स्वास्थ्य निर्माण योजना का अन्तिम पड़ाव है। कवि ने वर्तमान युग के नेता वर्ग पर व्यंग्य करते हुए बताया है कि आज के नेता अहम् रोग के शिकार हैं अतः उनके इलाज के लिए भी नए अस्पताल खुलवाने चाहिए।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि आज के नेता सभी बीमार हैं जो एक पागल रोगी के समान मंचों पर जाकर चिल्लाते हैं और बकवास करते हैं अर्थात् व्यर्थ की बातें करते हैं और जनता की भीड़ में मारे-मारे फिरते हैं। वे रोग ग्रस्त हैं। वे वात, पित्त और कफ रोगों के अतिरिक्त चौथे रोग अहम् से भी पीड़ित हैं। आज आवश्यकता इस बात की है कि इन नेताओं के इलाज के लिए बस्ती-बस्ती में अहम् का इलाज करने वाले नए अस्पताल खोले जाएँ जिससे ये समाज का स्वस्थ निर्माण कर सकें। इसके लिए हमें उपयुक्त वातावरण का निर्माण करना चाहिए। इन नेताओं से हमें डरना नहीं चाहिए क्योंकि ये सब तो बीमार हैं। हमें तो इन पर तरस खाना चाहिए। अर्थात् इनके प्रति सहानुभूति दर्शानी चाहिए क्योंकि ये अस्वस्थ हैं, बीमार हैं।

विशेष:

  1. कवि ने बीमार राजनीति पर चिंता व्यक्त करते हुए उसे सही दिशा देने की प्रेरणा दी है।
  2. भाषा तत्सम प्रधान, भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है। पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।

धर्मवीर भारती Summary

धर्मवीर भारती जीवन परिचय

धर्मवीर भारती जी का जीवन परिचय लिखिए।

धर्मवीर भारती का जन्म 25 दिसम्बर, सन् 1926 में इलाहाबाद में हुआ। यहीं से आपने हिन्दी विषय में एम० ए० तथा ‘सिद्ध साहित्य’ पर डी० फिल० की उपाधि प्राप्त की तथा इलाहाबाद में ही प्राध्यापक की नौकरी की। इनकी विशेष रुचि पत्रकारिता में थी। सन् 1960 में आप साप्ताहिक धर्मयुग के सम्पादक बन कर मुम्बई आ गए और सेवानिवृत्त होकर यहीं बस गए। यहीं 4 सितंबर, सन् 1997 को इनकी मृत्यु हो गई। भारत सरकार ने इन्हें पद्मश्री से अलंकृत किया था। ठंडा लोहा, अंधा युग, सात मीत वर्ष और कनुप्रिया आपके प्रसिद्ध काव्यसंग्रह हैं।

निर्माण योजना कविताओं का सार

‘निर्माण योजना’ कविता के चार अंश हैं। प्रथम अंश ‘बाँध’ में कवि ने समाज में व्याप्त घृणा रूपी नदी को बाँध कर उसे प्रेम में परेशत कर मानव कल्याण का संदेश दिया है। ‘यातायात’ में कवि ने समाज को बन्धन मुक्त होकर स्वच्छंदतापूर्वक जीवनयापन करने की सुविधा प्रदान करने के लिए कहा है। ‘कृषि’ में समस्त भेदभाव समाप्त कर समाज को सुख की खेती करने का संदेश दिया है तथा अंतिम अंश ‘स्वास्थ्य’ में अहंकार को त्याग कर वास्तविकता को पहचानने पर बल दिया है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

Punjab State Board PSEB 12th Class Hindi Book Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 12 Hindi Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

Hindi Guide for Class 12 PSEB गिरिजा कुमार माथुर Textbook Questions and Answers

(क) लगभग 40 शब्दों में उत्तर दो:

प्रश्न 1.
‘आदमी का अनुपात’ कविता में कवि ने मानव की संकीर्ण सोच और उसकी अहम् की भावना का चित्रण किया है-अपने शब्दों में लिखो।
उत्तर:
कवि ने प्रस्तुत कविता में दो व्यक्तियों के एक ही कमरे में रहते हुए अलग-अलग रास्ते पर चलने, मिलजुल कर न रह सकने को उसकी संकीर्ण सोच का कारण बताया है। उसमें आपसी सहयोग की कमी भी इसी भाव के अन्तर्गत . आती है। मानव कल्याण के लिए यह मानसिक संकीर्णता उपयुक्त नहीं है।

प्रश्न 2.
विशाल संसार में मनुष्य का अस्तित्व क्या है ? प्रस्तुत कविता के आधार पर लिखो।
उत्तर:
इस विशाल संसार के अनेक ब्रह्माण्डों में से एक में मनुष्य रहता है। इस विशाल संसार में अनेक पृथ्वियाँ, भूमियाँ और सृष्टियाँ हैं। अतः आदमी का इस संसार में स्थान बहुत छोटा है। इतना छोटा कि वह किसी सूरत में विशाल संसार की बराबरी नहीं कर सकता। उसका अस्तित्व अत्यन्त तुच्छ है।

प्रश्न 3.
‘आदमी का अनुपात’ कविता का सार अपने शब्दों में लिखें।
उत्तर:
कवि का मानना है कि आदमी का अस्तित्व उस विराटःसत्ता के सामने तुच्छ है। आदमी इस बात को समझता हुआ भी ईर्ष्या, अभिमान, स्वार्थ, घृणा और अविश्वास में पड़कर मानव कल्याण के रास्ते में रुकावटें खड़ी कर रहा है। वह अपने को दूसरों का स्वामी समझता है। ऐसे में भला वह दूसरों से कैसे मिलजुल कर रह सकता है। देश तो एक है किन्तु आज का आदमी इतने संकुचित दृष्टिकोण वाला, इतना व्यक्तिवादी हो गया है कि एक कमरे में रहने वाले दो व्यक्ति भी आपस में मिलजुल कर नहीं रह सकते। उन दोनों के रास्ते अलग और विचार अलग हैं। मानवता के कल्याण के लिए यह भावना सर्वथा अनुपयुक्त है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

प्रश्न 4.
‘पन्द्रह अगस्त’ माथुर जी की राष्ट्रीयवादी कविता है-स्पष्ट करें।
उत्तर:
श्री माथुर जी के द्वारा रचित कविता पन्द्रह अगस्त एक राष्ट्रवादी कविता है। इसमें कवि ने राष्ट्रवादियों को सम्बोधित करते हुए राष्ट्र की स्वतन्त्रता को बनाए रखने एवं उसकी सुरक्षा करने का आह्वान किया है। भले ही हम अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हो गए हैं किन्तु उनका प्रभाव बराबर बना हुआ है। इस पर हमें बाहरी और भीतरी शत्रुओं का भय भी बना हुआ है। बाहरी शत्रु कभी भी हम पर आक्रमण कर सकता है। उससे हमें लड़ना होगा और भीतरी शत्रु जैसे अभाव, ग़रीबी, बेरोज़गारी, साम्प्रदायिकता से भी हमें लड़ना होगा। किन्तु कवि को विश्वास है कि जन आन्दोलन राष्ट्र को सदा गतिशील बनाए रखेगा।

प्रश्न 5.
‘पन्द्रह अगस्त’ कविता का सार लिख कर इस का प्रतिपाद्य स्पष्ट करें।
उत्तर:
माथुर जी के काव्य संग्रह ‘धूप के धान’ में संकलित ‘पन्द्रह अगस्त’ शीर्षक कविता में शताब्दियों की दासता से मुक्ति के दिन पन्द्रह अगस्त, सन् 1947 के दिन के संदर्भ में नव-निर्माण की चिन्ता और सावधानी का स्वर मुखरित हुआ है। – कवि कहते हैं कि पन्द्रह अगस्त जीत की रात है। इस दिन कड़े संघर्ष के बाद अंग्रेज़ी शासन से मुक्ति पाई थी। स्वतन्त्र होने पर देश में निर्माण के अनेक मार्ग खुल गए हैं किन्तु हे भारतवासियो ! तुम्हें सावधान रहना होगा। स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद देश का यह पहला चरण ही है।

इस स्वतन्त्रता को जन आन्दोलन से प्राप्त किया गया है और इसकी पहली रत्नमयी हिलोर उठी है। जीवन रूपी मोतियों के इस सूत्र में अभी सुख-समृद्धि के अनेक मोती पिरोये जाने शेष हैं। किन्तु स्वतन्त्रता प्राप्ति के लिए किए जाने वाले संघर्ष के दौरान झेले जाने वाले कष्टों, दुःखों की याद किसी काले किनारे के समान अभी तक बनी हुई है अर्थात् पुराने दुःखों का इतिहास अभी समाप्त नहीं हुआ है। अतः हे भारतवासियो ! तुम्हें गम्भीर सागर से महान् बन कर समय की पतवार को अपने हाथों में थामना होगा।

भले ही आज पराधीनता की जंजीरें टूट गई हैं। पुराने साम्राज्य के सारे चिह्न मिट गए हैं। किन्तु अभी तक शत्रु, बाहरी और भीतरी, का खतरा बना हुआ है। अंग्रेज भले ही चले गए परन्तु अभी उनका प्रभाव नष्ट नहीं हुआ। भारतीय स्वतन्त्रता अभी तक भयमुक्त नहीं हुई है। किन्तु हमें विश्वास है कि स्वाधीनता के साथ जन जीवन में नई चेतना, नई ज़िन्दगी का संचार होगा। प्रस्तुत कविता में स्वाधीनता दिवस के हर्षोल्लास को प्रकट करते हुए नव-निर्माण की चिन्ता और सावधानी के स्वर प्रवलतर हैं। हर्ष और भय, उल्लास और चिन्ता के द्वन्द्व से निर्मित जटिल राग बोध के निरूपण की दृष्टि से प्रस्तुत कविता उल्लेखनीय है।

(ख) सप्रसंग व्याख्या करें:

प्रश्न 6.
ऊँची हुई मशाल …… सावधान रहना।
उत्तर:
कवि कहता है कि स्वतन्त्रता प्राप्त करके हमारी मशाल ऊँची हो गई है किन्तु आगे रास्ता बड़ा कठिन है। अंग्रेज़ रूपी शत्रु तो चले गए हैं परन्तु अभी उनका प्रभाव पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ तात्पर्य यह है कि भारतीय स्वतन्त्रता अभी तक पूरी तरह भयमुक्त नहीं हुई है, अभी तक बाहरी और भीतरी शत्रु का भय बना हुआ है। हमारा समाज अंग्रेज़ी दमन के कारण मुर्दे के समान हो चुका है.। इस पर हमारा अपना घर भी कमज़ोर है किन्तु हम में एक नई ज़िन्दगी आ रही है यह अमर-विश्वास है। आज जनता रूपी गंगा में तूफान उठ रहा है अतः अरी लहर तुम गतिशील रहना। हे भारतवासियो ! अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा के लिए तुम सदा सावधान रहना, जागरूक रहना।

प्रश्न 7.
इस पर भी आदमी………दो दुनिया रचाता है।
उत्तर:
कवि कहता है कि यह जान लेने पर भी कि आदमी उस विराट के आगे बहुत छोटा है, वह ईर्ष्या, अहंकार स्वार्थ, घृणा और अविश्वास में डूबा रहता है और अनगिनत शंख के समान कठोर दीवारें खड़ी करता है अर्थात् मानवता के विकास में अनेक बाधाएँ खड़ी करता है। वह अपने को दूसरों का स्वामी बताता है। ऐसी हालत में देशों की बात कौन कहे आदमी एक कमरे में भी दो दुनिया बनाता है अर्थात् एक कमरे में रहने वाले दो व्यक्ति भी मिल कर नहीं रह सकते। दोनों ही अपने-अपने रास्ते पर चलते हैं, एक-दूसरे से परे रहते हैं। मानव कल्याण के लिए यह स्थिति उपयुक्त नहीं है।

PSEB 12th Class Hindi Guide गिरिजा कुमार माथुर Additional Questions and Answers

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
गिरिजा कुमार माथुर का जन्म कहाँ और कब हुआ था?
उत्तर:
मध्य प्रदेश के अशोक नगर में, 22 अगस्त, सन् 1919 ई० में।

प्रश्न 2.
श्री माथुर की प्रमुख चार रचनाओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
नाश और निर्माण, धूप के धाम, शिलापंख चमकीले, जन्म कैद।

प्रश्न 3.
श्री माथुर का देहांत कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर:
इनका देहांत 10 जनवरी, सन् 1994 ई० में दिल्ली में हुआ था।

प्रश्न 4.
‘आदमी का अनुपात’ कविता में इन्सान को कैसा बताया है ?
उत्तर:
अहंकारी, स्वार्थी, अविश्वासी, ईर्ष्या से भरा हुआ।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

प्रश्न 5.
इन्सान अपनी ईर्ष्या-अहंकार के कारण क्या करता है?
उत्तर:
इन्सान ईर्ष्या के कारण मानवता के विकास में बाधाएँ खड़ी करता है।

प्रश्न 6.
‘पंद्रह अगस्त’ कविता में कवि ने किस चिंता को व्यक्त किया है?
उत्तर:
कवि ने अपनी इस कविता में नवनिर्माण की चिंता और सावधानी बनाने के भावों को व्यक्त किया है।

प्रश्न 7.
कवि ने देश की स्वतंत्रता के बाद किन से डरने की चेतावनी दी है ?
उत्तर:
कवि ने देश के बाहरी और भीतरी शत्रुओं से डरने की चेतावनी दी है। हमारा देश अंग्रेजी साम्राज्य के कारण कमज़ोर हो चुका है।

प्रश्न 8.
मानव कल्याण के लिए कवि ने किसे उचित नहीं माना?
उत्तर:
कवि ने मानसिक संकीर्णता को मानव कल्याण के लिए उचित नहीं माना।

प्रश्न 9.
इस विशाल संसार में मनुष्य का अस्तित्व कैसा है?
उत्तर:
इस विशाल संसार में मनुष्य का अस्तित्व अति तुच्छ है।

प्रश्न 10.
कवि की दृष्टि में आधुनिक इन्सान कैसा हो गया है?
उत्तर:
आधुनिक इन्सान ईर्ष्या से भरा हुआ, घमंडी, अविश्वासी और घृणा के भावों से युक्त है। वह स्वयं दूसरों का स्वामी बनना चाहता है। वह व्यक्तिवादी और संकुचित सोच वाला है।

वाक्य पूरे कीजिए

प्रश्न 11.
लाखों ब्रह्माण्डों में……
उत्तर:
अपना एक ब्रह्मांड।

प्रश्न 12.
इस पर भी आदमी..
उत्तर:
ईर्ष्या, अहं, स्वार्थी, घृणा, अविश्वास लीन।

प्रश्न 13.
………………खुली समस्त दिशाएँ।
उत्तर:
विषम श्रृंखलाएँ टूटी हैं।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

प्रश्न 14.
लहर, तुम प्रवहमान रहना…………….
उत्तर:
पहरुए, सावधान रहना।

हाँ-नहीं में उत्तर दीजिए

प्रश्न 15.
जीत की रात में पहरुए आराम से रहना।
उत्तर:
नहीं।

प्रश्न 16.
इन्सान एक कमरे में भी दो दुनिया बनाता है।
उत्तर:
हाँ।

प्रश्न 17.
लाखों ब्रह्माण्डों में अपना एक बह्माण्ड।
उत्तर:
हाँ।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. ‘नाश और निर्माण’ किस विधा की रचना है ?
(क) काव्य
(ख) गद्य
(ग) कहानी
(घ) उपन्यास
उत्तर:
(क) काव्य

2. कवि को कहां का सूचना अधिकारी नियुक्त किया गया ?
(क) भारत में
(ख) नेपाल में
(ग) संयुक्त राष्ट्र संघ में
(घ) संसद में।
उत्तर:
(ग) संयुक्त राष्ट्र संघ में

3. कवि को किसका उपनिदेशक नियुक्त किया गया ?
(क) आकाशवाणी लखनऊ का
(ख) आकाशवाणी दिल्ली का
(ग) सदन का
(घ) लोकसभा का।
उत्तर:
(क) आकाशवाणी लखनऊ का

4. कवि के अनुसार ब्राह्मांड कितने हैं ?
(क) लाखों
(ख) हज़ारों
(ग) सैंकड़ों
(घ) असंख्य।
उत्तर:
(क) लाखों

5. कवि के अनुरूप लाखों ब्रह्मांडों में आदमी का अनुपात कितना है ?
(क) तुच्छ
(ख) बड़ा
(ग) छोटा
(घ) भारी।
उत्तर:
(ग) छोटा

6. ‘पंद्रह अगस्त’ कविता में कवि ने देशवासियों को किसकी रक्षा के लिए सचेत किया है ?
(क) धन
(ख) स्वतंत्रता
(ग) परतंत्रता
(घ) देश
उत्तर:
(ख) स्वतंत्रता

गिरिजा कुमार माथुर सप्रसंग व्याख्या

आदमी का अनुपात

1. दो व्यक्ति कमरे में
कमरे से छोटे
कमरा है घर में
घर है मुहल्ले में
मुहल्ला नगर में
नगर है प्रदेश में
प्रदेश कई देश में
देश कई पृथ्वी पर
अनगिन नक्षत्रों में
पृथ्वी एक छोटी
करोड़ों में एक ही
सबको समेटे है
परिधि नभ-गंगा की

कठिन शब्दों के अर्थ:
आदमी का अनुपात = आदमी का अस्तित्व । अनगिन = असंख्य। परिधि = सीमा, घेरा। नभ गंगा = आकाश गंगा।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश प्रगतिवादी कवि गिरिजा कुमार माथुर द्वारा लिखित काव्य संग्रह ‘शिलापंख चमकीले,’ में संकलित कविता ‘आदमी का अनुपात’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने मानव की मानव के प्रति संकीर्ण सोच और व्यक्तिवादिता पर प्रकाश डालते इसे मानवता के कल्याण के लिए घातक बताया है।

व्याख्या:
कवि आदमी के अस्तित्व की विराट ब्रह्मांड से तुलना करते हुए कहता है कि दो व्यक्ति कमरे में रहते हैं। आकार की दृष्टि से वे कमरे से भी छोटे हैं। कमरा घर में है, घर मुहल्ले में, मुहल्ला नगर में, नगर प्रदेश (राज्य) में, प्रदेश देश में, देश पृथ्वी पर और पृथ्वी असंख्य नक्षत्रों की तुलना में बहुत छोटी प्रतीत होती है और आकाश गंगा अपनी सीमा में करोड़ों नक्षत्रों को समेटे हुए है।

विशेष:

  1. कवि ने इस विराट ब्रह्मांड में आदमी की स्थिति का मूल्यांकन किया है।
  2. भाषा तत्सम एवं भावपूर्ण प्रधान है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

2. लाखों ब्रह्माण्डों में
अपना एक ब्रह्माण्ड
हर ब्रह्माण्ड में
कितनी ही पृथ्वियाँ
कितनी ही भूमियाँ
कितनी ही सृष्टियाँ
यह है अनुपात
आदमी का विराट में।

कठिन शब्दों के अर्थ:
ब्रह्माण्ड = सम्पूर्ण विश्व।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ गिरिजा कुमार माथुर द्वारा रचित कविता ‘आदमी का अनुपात’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने आदमी की वास्तविकता चित्रित की है।

व्याख्या:
विराट स्वरूप ब्रह्माण्ड के सामने आदमी को बहुत छोटा बतलाते हुए कवि कहता है कि संसार में लाखों ब्रह्माण्ड हैं जिनमें आदमी का भी एक ब्रह्माण्ड है, जिसमें वह रहता है। हर ब्रह्माण्ड में कितनी ही पृथ्वियाँ हैं, कितनी ही भूमियाँ हैं और कितनी ही सृष्टियाँ हैं, अतः आदमी का ब्रह्माण्ड इन ब्रह्माण्डों के सामने बहुत छोटा है। वह उसकी बराबरी कभी नहीं कर सकता।

विशेष:

  1. मनुष्य की अकिंचन स्थिति का वर्णन किया गया है।
  2. भाषा सहज तथा भावपूर्ण है।

3. इस पर भी आदमी
ईर्ष्या, अहं, स्वार्थ, घृणा, अविश्वास लीन
संख्यातीत शंख-सी दीवारें उठाता है
अपने को दूजे का स्वामी बताता है
देशों की कौन कहे
एक कमरे में
दो दुनियां रचाता है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
लीन = लगा हुआ, मस्त। संख्यातीत = अनगिनत।

प्रसंग:
प्रस्तुत पक्तियाँ गिरिजा कुमार माथुर द्वारा रचित कविता ‘आदमी का अनुपात’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने आदमी की वास्तविकता चित्रित की है।

व्याख्या:
कवि कहता है कि यह जान लेने पर भी कि आदमी उस विराट के आगे बहुत छोटा है, वह ईर्ष्या, अहंकार स्वार्थ, घृणा और अविश्वास में डूबा रहता है और अनगिनत शंख के समान कठोर दीवारें खड़ी करता है अर्थात् मानवता के विकास में अनेक बाधाएँ खड़ी करता है। वह अपने को दूसरों का स्वामी बताता है। ऐसी हालत में देशों की बात कौन कहे आदमी एक कमरे में भी दो दुनिया बनाता है अर्थात् एक कमरे में रहने वाले दो व्यक्ति भी मिल कर नहीं रह सकते। दोनों ही अपने-अपने रास्ते पर चलते हैं, एक-दूसरे से परे रहते हैं। मानव कल्याण के लिए यह स्थिति उपयुक्त नहीं है।

विशेष:

  1. मनुष्य अपने अहंकार के कारण ही परस्पर झगड़ता रहता है।
  2. भाषा तत्सम प्रधान तथा भावपूर्ण है।

पन्द्रह अगस्त

1. आज जीत की रात
पहरुए सावधान रहना
खुले देश के द्वार
अचल दीपक समान रहना
प्रथम चरण है नये स्वर्ग का
है मंजिल का छोर
इस जन-मंथन में उठ आई
पहली रत्न हिलोर
अभी शेष है पूरी होना
जीवन-मुक्ता डोर
क्योंकि नहीं मिट याई दुख की
विगत साँवली कोर
ले युग की पतवार
बने अंबुधि महान रहना
पहरुए, सावधान रहना।

कठिन शब्दों के अर्थ:
जीत की रात = स्वतन्त्रता प्राप्ति की रात। पहरुए = देश वासी, देश के रक्षक। सावधान रहना = सचेत रहना। अचल = स्थिर। छोर = किनारा। हिलोर = तरंग। जीवन-मुक्ता = जीवन रूपी मोतियों की। विगत = बीती हुई। साँवली-अँधेरी = प्राचीन दुःखों और कष्टों भरा गुलामी का इतिहास । जल-मंथन = जन आन्दोलन। कोर = किनारा। अंबुधि = समुद्र।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश कवि गिरिजा कुमार माथुर जी की काव्यकृति ‘धूप के धान’ में संकलित कविता ‘पन्द्रह अगस्त’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद बाहरी ओर भीतर शत्रुओं से सावधान रह कर स्वतन्त्रता की रक्षा करने की बात कही है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि आज जीत की रात है अर्थात् वर्षों की गुलामी के बाद संघर्ष करके हम ने स्वतन्त्रता प्राप्त की है अतः हे देशवासियो ! इस स्वतन्त्रता की रक्षा करने के लिए तुम सावधान अर्थात् सचेत रहना। देश के द्वार खुल गए हैं अर्थात् देश पराधीनता से मुक्त हो गया है इसलिए तुम स्थिर दीपक बन कर रहना। इन नए स्वर्ग का अर्थात् स्वतन्त्र भारत का यह पहला चरण है और लक्ष्य का प्रारम्भ है। इस जन आन्दोलन से अर्थात् जनता के निरन्तर संघर्ष से स्वतन्त्रता की यह रत्नों से युक्त लहर उठी है। अभी जीवन रूपी मोतियों के इस सूत्र में अनेक मोती पिरोये जाने शेष हैं। क्योंकि अभी तक बीते हुए काले किनारे अर्थात् परतन्त्रता के दिनों के दुःख भरे चिह्न बाकी हैं। अतः हे भारतवासियो ! समय की पतवार लेकर महान् समुद्र के समान बन कर रहना है। हे भारतवासियो ! तुम्हें अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा के लिए जागरूक रहना है।

विशेष:

  1. कवि देशवासियों को अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा के लिए सावधान रहने के लिए कह रहा है।
  2. भाषा तत्सम प्रधान भावपूर्ण है। रूपक अलंकार है।

2. विषम श्रृंखलाएँ टूटी हैं
खुली समस्त दिशाएँ
आज प्रभजन बनकर चलती
युग-बंदिनी हवाएँ
प्रश्न चिह्न बन खड़ी हो गई
यह सिमटी सीमाएँ
आज पुराने सिंहासन की
टूट रही प्रतिमाएँ
उठत है तूफान, इन्दु तुम
दीप्तिमान रहना
पहरुए, सावधान रहना।

कठिन शब्दों के अर्थ:
विषम श्रृंखलाएँ = पराधीनता की भयानक जंजीरें। प्रभंजन = आँधी, तूफान । पुराने सिंहासन = पुरानी मान्यताएँ या पुराने साम्राज्य-अंग्रेज़ी शासक। टूट रही प्रतिमाएँ = मूर्तियाँ टूट रही हैं अर्थात् अंग्रेजी शासन के चिह्न नष्ट हो रहे हैं। इंदु = चन्द्रमा। दीप्तिमान रहना = जग मगाते रहना।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ गिरिजा-कुमार माथुर द्वारा रचित कविता ‘पन्द्रह अगस्त’ से ली गई हैं, जिसमें कवि देशवासियों को अपनी स्वतंत्रता की रक्षा करने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि पराधीनता की भयानक जंजीरें टूट गई हैं-भारत अब स्वतन्त्र हो गया है और निर्माण और प्रगति के सारे मार्ग खुल गए हैं किन्तु अभी तक बाहरी शत्रु जो हमारी सीमाओं पर खड़ा है कि जब भी हम असावधान हुए वह आक्रमण कर सकता है। जो तूफ़ानी हवा बन कर बह रहा है। आज हमारी सीमाएँ प्रश्न चिह्न बन कर खड़ी हो गई हैं। ये सीमाएँ हमारे निकट आ गई हैं। आज भले ही अंग्रेजी शासन की सभी मूर्तियाँ टूट रही हैं अर्थात् उसके सभी चिह्न नष्ट हो गए हैं किन्तु भीतरी शत्रु-अभावग्रस्तता, ग़रीबी, बेरोज़गारी, साम्प्रदायिक वैमनस्य की भावना रूपी तूफान अभी उठ रहा है। अतः हे चन्द्रमा ! तुम जगमगाते रहना। हे भारतवासियो ! तुम इन बाहरी और भीतरी शत्रुओं से सावधान रहना, जागरूक रहना।

विशेष:

  1. कवि ने देशवासियों को बाहरी तथा आंतरिक शत्रुओं से सावधान रहने के लिए कहा है।
  2. भाषा तत्सम प्रधान तथा भावपूर्ण है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 11 गिरिजा कुमार माथुर

3. ऊँची हुई मशाल हमारी
आगे कठिन डगर है
शत्रु हट गया लेकिन उसकी
छायाओं का डर है
शोषण से मृत है समाज
कमज़ोर हमारा घर है
किन्तु आ रही नई जिन्दगी
यह विश्वास अमर है
जनगंगा में ज्वार,
लहर, तुम प्रवहमान रहना
पहरुए, सावधान रहना।

कठिन शब्दों के अर्थ:
डगर = रास्ता। शत्रु = अंग्रेज़। शोषण = दमन। मृत = मुर्दा । ज्वार = तूफान। प्रवाहमान = गतिशील।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ गिरिजा कुमार माथुर द्वारा रचित कविता ‘पन्द्रह अगस्त’ से ली गई हैं, जिसमें कवि देशवासियों को अपनी स्वतंत्रता की रक्षा करने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहता है कि स्वतन्त्रता प्राप्त करके हमारी मशाल ऊँची हो गई है किन्तु आगे रास्ता बड़ा कठिन है। अंग्रेज़ रूपी शत्रु तो चले गए हैं परन्तु अभी उनका प्रभाव पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ तात्पर्य यह है कि भारतीय स्वतन्त्रता अभी तक पूरी तरह भयमुक्त नहीं हुई है, अभी तक बाहरी और भीतरी शत्रु का भय बना हुआ है। हमारा समाज अंग्रेज़ी दमन के कारण मुर्दे के समान हो चुका है.। इस पर हमारा अपना घर भी कमज़ोर है किन्तु हम में एक नई ज़िन्दगी आ रही है यह अमर-विश्वास है। आज जनता रूपी गंगा में तूफान उठ रहा है अतः अरी लहर तुम गतिशील रहना। हे भारतवासियो ! अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा के लिए तुम सदा सावधान रहना, जागरूक रहना।

विशेष:

  1. कवि देशवासियों को अपनी स्वतंत्रता की रक्षा के लिए प्रेरित किया है।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। उद्बोधनात्मक स्वर है।

गिरिजा कुमार माथुर Summary

गिरिजा कुमार माथुर जीवन परिचय

गिरिजा कुमार माथुर जी का जीवन परिचय लिखिए।

गिरिजा कुमार माथुर का जन्म 22 अगस्त, सन् 1919 ई० को मध्यप्रदेश के अशोक नगर में हुआ। लखनऊ विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में एम० ए० तथा एल० एल० बी० पास करके आपने झाँसी में कुछ समय तक वकालत की और बाद में आकाशवाणी में नौकरी कर ली। सन् 1950 में आपको संयुक्त राष्ट्र संघ में सूचना अधिकारी नियुक्त किया गया। सन् 1953 में वापस आकर इन्हें आकाशवाणी लखनऊ के उपनिदेशक पद पर नियुक्त किया गया। इन्होंने आकाशवाणी जालन्धर में भी कार्य किया और दिल्ली केन्द्र से उप महानिदेशक पद से सेवानिवृत्त हुए। इनका निधन 10 जनवरी, सन् 1994 को नई दिल्ली में हो गया था।

इनकी नाश और निर्माण, धूप के धान, शिलापंख चमकीले, जो बंध नहीं सका, भीतरी नदी की यात्रा, जन्म कैद आदि प्रमुख रचनाएँ हैं।

गिरिजा कुमार माथुर कविताओं का सार

आदमी का अनुपात कविता में कवि ने अहंकारी मनुष्य को बताया है कि लाखों ब्रह्मांडों के मध्य उसका अनुपात कितना तुच्छ है, फिर भी वह स्वार्थवश अपनी अलग दुनिया रचना चाहता है, यहाँ तक कि एक कमरे में दो आदमी भी मिलकर नहीं रह पाते। ‘पन्द्रह अगस्त’ कविता ने देशवासियों को अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा के लिए सचेत रहने के लिए कहा है क्योंकि हमारी स्वतंत्रता पर बाहरी सीमा से शत्रु तथा आंतरिक रूप से देश की समस्याएं आक्रमण कर सकती हैं। इसलिए हमें सदा सजग प्रहरी बनकर इनसे जूझना होगा।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran वाच्य विचार

Punjab State Board PSEB 8th Class Hindi Book Solutions Hindi Grammar Vachya Vichar वाच्य विचार Exercise Questions and Answers, Notes.

PSEB 8th Class Hindi Grammar वाच्य विचार

प्रश्न 1.
वाच्य किसे कहते हैं ? वाच्य के भेद भी लिखो।
अथवा
वाच्य किसे कहते हैं ? वह कितने प्रकार का होता है ? उदाहरण देकर स्पष्ट करो।
उत्तर:
क्रिया के जिस रूपान्तर से यह जाना जाए कि वाच्य में क्रिया के विधान का मुख्य विषय कर्ता है या कर्म अथवा भाव, उसे वाच्य कहते हैं।
वाच्य तीन प्रकार के हैं-
1. कर्तृवाच्य : जब क्रिया के विधान का विषय कर्ता हो ; उसे कर्तृवाच्य कहते हैं; जैसे-राधा गीत गाती है। राम पढ़ता है।
2. कर्मवाच्य : जब क्रिया के विधान का विषय कर्म हो ; उसे कर्मवाच्य कहते हैं; जैसे-राधा से गीत गाया जाता है। राम से पढ़ा जाता है।
3. भाववाच्य : जब क्रिया के विधान का विषय न कर्ता हो न कर्म वरन् भाव ही क्रिया के विधान का विषय हो तो उसे भाववाच्य कहा जाता है; जैसे-सुरेश से उठा जाता

विशेष :
1. कर्तवाच्य : सकर्मक और अकर्मक दोनों क्रियाओं का होता है।
2. कर्मवाच्य : यह केवल अकर्मक क्रियाओं का होता है।
3. भाववाच्य : यह केवल सकर्मक क्रियाओं का होता है।

कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य तथा भाववाच्य बनाने की विधि-
(क) कर्ता के साथ करण कारक लगाओ।।
(ख) कर्म के साथ कर्ता लगाओ और विभक्ति रहित कर दो।
(ग) कर्मवाच्य और भाववाच्य को कर्तृवाच्य में बदलते समय उल्टी प्रक्रिया करते हैं।

कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य :

कर्तृवाच्य – कर्मवाच्य
(1) मैं रोटी खाता हूँ। – (1) मुझसे रोटी खाई जाती है।
(2) मैं पत्र लिखता हूँ। – (2) मुझ से पत्र लिखा जाता है।
(3) मैं पिता जी को पत्र भेजता हूँ। – (3) मुझ से पिता जी को पत्र भेजा जाता है।

कर्तृवाच्य से भाववाच्य :

कर्तृवाच्य – भाववाच्य
(1) राम तेज़ दौड़ता है। – (1) राम से तेज़ दौड़ा जाता है।
(2) मैं सर्दियों में नहीं नहाता। – (2) मुझ से सर्दियों में नहीं नहाया जाता।

कर्मवाच्य से कर्तृवाच्य :

कर्मवाच्य – कर्तृवाच्य
(1) तुम से दूध नहीं पीया जाता। – (1) तुम दूध नहीं पी सकते।
(2) मुझ से ऐसी बातें नहीं सुनी जातीं। – (2) मैं ऐसी बात नहीं सुन सकता।

भाववाच्य से कर्तृवाच्य :

भाववाच्य – कर्तृवाच्य
(1) तुम से सवेरे नहीं उठा जाता। – (1) तुम सवेरे नहीं उठ सकते।
(2) हम से देर तक नहीं जागा जाता। – (2) हम देर तक नहीं जाग सकते।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran वाच्य विचार

वाच्य परिवर्तन सम्बन्धी कुछ उदाहरण :

कर्तवाच्य – कर्मवाच्य
(1) भिखारी भोजन खाता है। – भिखारी द्वारा भोजन खाया जाता है।
(2) पुलिस ने चोरों को पकड़ लिया है। – पुलिस द्वारा चोर पकड़े गए।
(3) चुनाव अधिकारी ने मतों की गिनती की। – चुनाव अधिकारी द्वारा मत गिने गए।
(4) राम ने खाना खाया। – राम द्वारा खाना खाया गया।
(5) शेर ने हिरण को मार डाला। – शेर द्वारा हिरण मारा गया।
(6) सीता लेख लिखेगी। – सीता द्वारा लेख लिखा जाएगा।
(7) मोहन ने दूध पीया। – मोहन द्वारा दूध पीया जाएगा।
(8) पशु चारा खाते हैं। – पशुओं द्वारा चारा खाया जाता है।
(9) क्या सुरेन्द्र ने सिनेमा देखा? – क्या सुरेन्द्र द्वारा सिनेमा देखा गया?
(10) अब मैं स्कूल नहीं जाऊँगा? – अब मुझसे स्कूल नहीं जाया जाएगा।
(11) अब मैं नहीं पढुंगा। – अब मुझसे पढ़ा नहीं जाएगा।
(12) मोहन समाचार-पत्र पढ़ता है। – मोहन द्वारा समाचार-पत्र पढ़ा जाता है।
(13) माता जी ने मुझे वहाँ देखा। – माता जी द्वारा मैं वहाँ देखा गया।
(14) कुत्ते ने उसे काट खाया। – कुत्ते द्वारा वह काट खाया गया।
(15) कमला ने दौड़ लगाई। – कमला द्वारा दौड़ लगाई गई।
(16) हमारी टीम ने मैच जीता। – हमारी टीम द्वारा मैच जीता गया।
(17) हम सो नहीं सकते। – हमसे सोया नहीं जाता।
(18) पिता जी पत्र लिखेंगे। – पिता जी द्वारा पत्र लिखा जाएगा।
(19) स्त्रियाँ गीत गा रही हैं। – स्त्रियों द्वारा गीत गाए जा रहे हैं।
(20) मनुष्य अन्न खाते हैं। – मनुष्य द्वारा अन्न खाया जाता है।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran वाच्य विचार

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

1. नीचे लिखे वाक्यों में वाच्य बदलो-

(1) हम चाय नहीं पीते।
उत्तर:
हमसे चाय नहीं पी जाती।

(2) मैं कह नहीं सकता।
उत्तर:
मुझसे कहा नहीं जा सकता।

(3) विद्यार्थी ग्राम को जाता है।
उत्तर:
विद्यार्थी द्वारा ग्राम को जाया जाता है।

(4) सोहन द्वारा सिनेमा देखा जाता है।
उत्तर:
सोहन सिनेमा देखता है।

(5) विद्यार्थी हँसते हैं।
उत्तर:
विद्यार्थियों द्वारा हँसा जाता है।

(6) बुद्ध हँसे।
उत्तर:
बुद्ध द्वारा हँसा गया।

(7) गुरु जी ने उत्तर दिया।
उत्तर:
गुरु जी द्वारा उत्तर दिया गया।

(8) बुद्ध ने उसे शिष्य बनाया।
उत्तर:
बुद्ध द्वारा वह शिष्य बनाया गया।

(9) लड़कियाँ स्कूल को जाती हैं।
उत्तर:
लड़कियों द्वारा स्कूल जाया जाता है।

(10) माता पुत्र को दूध पिलाती है।
उत्तर:
माता द्वारा पुत्र को दूध पिलाया जाता है।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran वाच्य विचार

(11) चाँद चमकता है।
उत्तर:
चाँद द्वारा चमका जाता है।

(12) माली पौधों को सींचता है।
उत्तर:
माली द्वारा पौधे सींचे जाते हैं।

(13) किसान बीजों को बोता है।
उत्तर:
किसान द्वारा बीज बोये जाते हैं।

(14) छात्रों ने मेजें थपथपाईं।
उत्तर:
छात्रों द्वारा मेजें थपथपाई गईं।

(15) अध्यापकों ने प्रदर्शन किया।
उत्तर:
अध्यापकों द्वारा प्रदर्शन किया गया।

(16) भगत सिंह ने साण्डर्स को गोली से उड़ा दिया।
उत्तर:
भगत सिंह द्वारा साण्डर्स को गोली से उड़ा दिया गया।

(17) मैं आपकी बात नहीं समझा।
उत्तर:
मुझसे आपकी बात नहीं समझी गई।

(18) देखो, ऐसा मत करो।
उत्तर:
देखो, ऐसा न किया जाए।

(19) चपड़ासी ने घंटी बजाई।
उत्तर:
चपड़ासी द्वारा घंटी बजाई गई।

(20) वे तितलियाँ पकड़ते हैं।
उत्तर:
उनके द्वारा तितलियाँ पकड़ी जाती हैं।

(21) मैं यह पुस्तक पढ़ सकता हूँ।
उत्तर:
मुझसे यह पुस्तक पढ़ी जा सकती है।

(22) मैं तो ठहर गया, भला तुम कब ठहरा जाएगा।
उत्तर:
मुझसे तो ठहरा गया, भला तुमसे कब ठहरोगे।

(23) बुद्ध शान्तिपूर्वक मुस्कुरा रहे हैं।
उत्तर:
बुद्ध द्वारा शान्तिपूर्वक मुस्कुराया जा रहा है।

(24) योगी ने उसे योग विद्या सिखलाई।
उत्तर:
योग द्वारा उसे विद्या सिखलाई गई।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran काल प्रकरण

Punjab State Board PSEB 8th Class Hindi Book Solutions Hindi Grammar Kal Prakaran काल प्रकरण Exercise Questions and Answers, Notes.

PSEB 8th Class Hindi Grammar काल प्रकरण

प्रश्न 1.
काल किसे कहते हैं ? काल के भेद बताओ।
उत्तर:
क्रिया के जिस रूप से उसके होने या करने के समय का बोध हो, उसे काल कहते हैं। काल के मुख्य तीन भेद हैं-(1) भूतकाल, (2) वर्तमान काल, (3) भविष्यत् काल।

1. वर्तमान काल :
जिस क्रिया के रूप से पता चले कि काम अभी हो रहा है, उसे वर्तमान-काल कहते हैं।
इसके तीन भेद हैं-
(i) सामान्य वर्तमान।
(ii) अपूर्ण या तात्कालिक वर्तमान।
(iii) संदिग्ध वर्तमान।

(i) सामान्य वर्तमान : क्रिया का वह रूप जिससे काम के वर्तमान समय में सामान्यतः होने का बोध हो; जैसे–मोहन जाता है।
(ii) अपूर्ण वर्तमान : क्रिया का वह रूप जिससे ज्ञान होता है कि काम शुरू हो गया है और अभी जारी है, उसे अपूर्ण या तात्कालिक वर्तमान कहते हैं; जैसे–मोहन जा रहा
(ii) संदिग्ध वर्तमान : क्रिया का वह रूप जिससे मालूम होता है कि क्रिया वर्तमान में हो रही है, किन्तु उसके होने में सन्देह हो, उसे संदिग्ध वर्तमान कहते हैं; जैसे-मोहन जाता होगा।

2. भूतकाल :
जिस क्रिया के रूप से पता चले कि काम बीते हुए समय में पूरा हो गया, उसे भूतकाल की क्रिया कहते हैं।
इसके छ: भेद हैं-
(i) सामान्य भूत : क्रिया के जिस रूप से यह मालूम हो कि बीते हुए समय में सामान्यतः पूरा हो गया, उसे सामान्यत भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा।
(ii) आसन्न भूत : क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात हो कि काम अभी-अभी पूरा हुआ है, उसे आसन्न भूत कहते हैं; जैसे-मोहन ने साँप देखा है।
(ii) पूर्ण भूत : क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात हो कि काम बहुत पहले पूरा हो चुका था, उसे पूर्ण भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा था।
(iv) अपूर्ण भूत-क्रिया के जिस रूप से क्रिया का भूतकाल में होना पाया जाए , लेकिन पूर्ण हुआ या नहीं ज्ञात न हो, उसे अपूर्ण भूत कहते हैं; जैसे-मोहन साँप देख रहा था।
(v) संदिग्ध भूत-जिस क्रिया के करने या होने में सन्देह हो, उसे संदिग्ध भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा होगा।
(vi) हेतु-हेतुमद् भूत-क्रिया के जिस रूप से कार्य के भूतकाल में होने या किए जाने में शर्त पाई जाए, उसे हेतु-हेतुमद् भूत कहते हैं; जैसे-यदि साँप देखता तो चला जाता।

3. भविष्यत् काल :
क्रिया के जिस रूप से किसी काम का आने वाले समय में किया जाना या होना ज्ञात हो, उसे भविष्यत् काल कहते हैं।
इसके दो भेद हैं-
(i) सामान्य भविष्यत्।
(ii) सम्भाव्य भविष्यत्।

(i) सामान्य भविष्यत् : क्रिया के जिस रूप में काम का सामान्य रूप से भविष्य में किया जाना या होना पाया जाए, उसे सामान्य भविष्यत् कहते हैं; जैसे–मोहन जाएगा।
(ii) सम्भाव्य भविष्यत् : क्रिया का वह रूप जिससे काम के भविष्य मे होने या किए जाने की सम्भावना है, पर निश्चय नहीं, उसे सम्भाव्य भविष्यत् कहते हैं; जैसे-मोहन दिल्ली जाए।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran काल प्रकरण

प्रश्न 2.
भूतकाल किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
भूतकाल :
जिस क्रिया के रूप से पता चले कि काम बीते हुए समय में पूरा हो गया, उसे भूतकाल की क्रिया कहते हैं।
इसके छ: भेद हैं-
(i) सामान्य भूत : क्रिया के जिस रूप से यह मालूम हो कि बीते हुए समय में सामान्यतः पूरा हो गया, उसे सामान्यत भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा।
(ii) आसन्न भूत : क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात हो कि काम अभी-अभी पूरा हुआ है, उसे आसन्न भूत कहते हैं; जैसे-मोहन ने साँप देखा है।
(ii) पूर्ण भूत : क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात हो कि काम बहुत पहले पूरा हो चुका था, उसे पूर्ण भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा था।
(iv) अपूर्ण भूत-क्रिया के जिस रूप से क्रिया का भूतकाल में होना पाया जाए , लेकिन पूर्ण हुआ या नहीं ज्ञात न हो, उसे अपूर्ण भूत कहते हैं; जैसे-मोहन साँप देख रहा था।
(v) संदिग्ध भूत-जिस क्रिया के करने या होने में सन्देह हो, उसे संदिग्ध भूत कहते हैं; जैसे–मोहन ने साँप देखा होगा।
(vi) हेतु-हेतुमद् भूत-क्रिया के जिस रूप से कार्य के भूतकाल में होने या किए जाने में शर्त पाई जाए, उसे हेतु-हेतुमद् भूत कहते हैं; जैसे-यदि साँप देखता तो चला जाता।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran काल प्रकरण

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

1. निम्नलिखित वाक्यों को वर्तमान काल में बदलो

(1) गतवर्ष मोहन ने रामायण की कहानी पढ़ी थी।
उत्तर:
इस वर्ष मोहन रामायण की कहानी पढ़ता

(2) एक नहीं अनेक उदाहरण मिल जाएँगे।
उत्तर:
एक नहीं अनेक ऐसे उदाहरण मिल जाते

(3) सभा में उपस्थित हर एक सदस्य मत है।
उत्तर:
सभा में उपस्थित हर एक सदस्य का यही का यही मत था।

(4) मैं आपके दर्शन करने आया था।
उत्तर:
मैं आपके दर्शन करने आया हूँ।

(5) गाँव के ज्यादातर लोग अनपढ़ थे।
उत्तर:
गाँव के ज्यादातर लोग अनपढ़ हैं।

(6) वह दूसरे कमरे में गया।
उत्तर:
वह दूसरे कमरे में जाता है।

(7) धनी ने ब्राह्मण को दान दिया।
उत्तर:
धनी ब्राह्मण को दान देता है।

(8) इसी नदी ने रुख बदल लिया।
उत्तर:
यह नदी रुख बदलती है।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran काल प्रकरण

2. निम्नलिखित वाक्यों को भूतकाल में बदलो

(1) फसल कहीं-कहीं से कटी हुई है।
उत्तर:
फसल कहीं-कहीं से कटी हुई थी।

(2) अर्जुन की आंखें भर आती हैं।
उत्तर:
अर्जुन की आँखें भर आईं।

(3) वह गुरु की ओर देखता है।
उत्तर:
उसने गुरु की ओर देखा।

(4) एकलव्य के अंगूठे से रक्त बहता है।
उत्तर:
एकलव्य के अंगूठे से रक्त बहने लगा।

(5) देव आठवीं श्रेणी का विद्यार्थी है।
उत्तर:
देव आठवीं श्रेणी का विद्यार्थी था।

(6) मैं स्कूल में काम करता हूँ।
उत्तर:
मैंने स्कूल में काम किया।

(7) माता जी सुबह जल्दी उठती हैं।
उत्तर:
माता जी सुबह जल्दी उठतीं थीं।

(8) महेश बुराई से घृणा करता है।
उत्तर:
महेश बुराई से घृणा करता था।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran काल प्रकरण

3. निम्नलिखित वाक्यों को भूतकाल से भविष्यत् काल में बदलो

(1) राम आया, श्याम गया।
उत्तर:
राम आएगा, श्याम जाएगा।

(2) मोहन ने तलवार चलाई।
उत्तर:
मोहन तलवार चलाएगा।

(3) मैंने बाजा बजाया।
उत्तर:
मैं बाजा बजाऊँगा।

(4) सोहन ने गीता पढ़ी।
उत्तर:
सोहन गीता पढ़ेगा।

(5) देव ने दरबार साहब देखा।
उत्तर:
देव दरबार साहब देखेगा।

(6) गार्ड ने हरी झंडी दिखाई।
उत्तर:
गार्ड हरी झंडी दिखाएगा।

(7) मैं आज घर नहीं गई।
उत्तर:
मैं आज घर नहीं आऊँगी।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

Punjab State Board PSEB 8th Class Hindi Book Solutions Hindi Grammar Avikari Shabd (Avyay) अविकारी शब्द (अव्यय) Exercise Questions and Answers, Notes.

PSEB 8th Class Hindi Grammar अविकारी शब्द (अव्यय)

प्रश्न 1.
अव्यय किसे कहते हैं ? ये कितने प्रकार के होते हैं ?
उत्तर:
जिन शब्दों का लिंग, वचन, कारक, काल आदि के कारण कोई रूप नहीं बदलता उन्हें अव्यय कहते हैं। अव्यय का दूसरा नाम अविकारी शब्द है।
अव्यय चार प्रकार के होते हैं-
(1) क्रिया विशेषण
(2) सम्बन्ध बोधक
(3) समुच्चय बोधक
(4) विस्मयादि बोधक।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

1. क्रिया विशेषण

प्रश्न 1.
क्रिया विशेषण का लक्षण (परिभाषा) लिखकर उसके भेदों का वर्णन करो।
अथवा
क्रिया विशेषण किसे कहते हैं ? उसके कितने भेद हैं ?
उत्तर:
वे शब्द जो क्रिया की विशेषता प्रकट करें, उसे क्रिया विशेषण कहते हैं; जैसे-धीरे-धीरे, यहाँ से, कल, आज, ऊँचे से ऊँचाई आदि। क्रिया विशेषण के चार भेद हैं
1. कालवाचक :
जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के होने का समय सूचित करते हैं उन्हें कालवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं; जैसे-आज, कल, परसों, जब, तब, कब, साय, प्रात: आदि।
उदाहरण :
(i) मैं प्रातः व्यायाम करता हूँ।
(ii) आजकल वर्षा हो रही है।
(iii) परसों मेला देखने चलेंगे।

2. स्थानवाचक :
जो क्रिया विशेषण क्रिया के स्थान या दिशा के विषय में बोध कराएँ उन्हें स्थानवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं; जैसे–यहाँ, वहाँ, आगे, पीछे, मध्य, ऊपर, नीचे, इधर, किधर, दाहिने, बाएँ, सामने आदि।
उदाहरण :
(i) इधर-उधर मत देखो।
(ii) भीतर जा कर पढ़ो।
(ii) यहाँ बैठो।

3. परिमाणवाचक :
जो क्रिया विशेषण क्रिया के परिमाण को प्रकट करें उन्हें परिमाणवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं; जैसे-अधिक, जितना, थोड़ा, बहुत, कम आदि।
उदाहरण :
(i) कम बोलो, अधिक सोचो।
(ii) तनिक हँसो भी।
(iii) चाय में दूध काफी है, चीनी थोड़ी है।

4. रीतिवाचक :
जो क्रिया विशेषण क्रिया की रीति या विधि का बोध कराएँ उन्हें रीतिवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं; जैसे-धीरे-धीरे, जल्दी, शीघ्र, तेज़ आदि।
उदाहरण :
(i) दिन जल्दी-जल्दी ढलता है।
(ii) मैं तो ठीक पढ़ रहा था।
(iii) क्या तुम पैदल चलोगे ?

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

2. संबंध बोधक

प्रश्न 1.
संबंध बोधक अव्यय किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर स्पष्ट करो।
उत्तर:
जो संज्ञा और सर्वनाम के आगे-पीछे आ कर वाक्यों के दूसरे शब्दों से उसका सम्बन्ध बताते हैं, उन्हें सम्बन्ध बोधक अव्यय कहा जाता है; जैसे-ऊपर, भीतर, आगे, पीछे, ऊँचे, नीचे, समीप, दूर, बाहर, सहित आदि।
उदाहरण:
(i) डर के मारे उसका चेहरा पीला पड़ गया।
(ii) मेरा घर विद्यालय के पीछे है।

3. समुच्चय बोधक

प्रश्न 1.
समुच्चय बोधक अथवा योजक अव्यय किसे कहते हैं ?
अथवा
योजक की परिभाषा लिखें।
उत्तर:
जो दो शब्दों, वाक्यांशों या वाक्यों को मिलाते हैं, उन्हें समुच्चय बोधक या योजक अव्यय कहते हैं; जैसे-और, भी, तथा, कि, अथवा, अतः, किन्तु, परन्तु, इसलिए, मानो आदि।
उदाहरण :
(i) मोहन ने कहा कि मैं आपकी प्रतीक्षा करूँगा।
(ii) मैंने तो बहुत कहा किन्तु वह नहीं माना।

4. विस्मयादि बोधक

प्रश्न 1.
विस्मयादि बोधक किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
जो शब्द विस्मय हर्ष, शोक, घृणा आदि भावों को प्रकट करते हैं, उन्हें विस्मयादि बोधक कहते हैं; जैसे-ओहो, आह, हाय, बाप रे, खूब, वाह-वाह, धन्य, अरे, अजी इत्यादि।
उदाहरण :
(i) हाय ! मैं मारा गया।
(ii) वाह ! क्या फिल्म थी।
(iii) धन्य ! गुरुदेव जो आप यहाँ पधारे।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

आति लघत्तरात्मक प्रश्न

1. निम्नलिखित वाक्यों में से क्रिया विशेषण शब्द छाँटो

प्रश्न 1.
(क) रवि आज भोजन नहीं करेगा।
(ख) धीरे-धीरे चलो।
(ग) इतना मत पढ़ो।
(घ) वहाँ घोर अंधेरा है।।
(ङ) उस दिन वर्षा सुबह से हो रही थी।
(च) गुफा में रुक-रुक कर पानी टपक रहा था।
(छ) धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा।
(ज) शेषनाग नामक स्थान पर रात भर टिकना अनिवार्य होता है।
(झ) वीर पुरुष किसी से नहीं डरता।
(ज) मोहन आज भोजन नहीं करेगा।
उत्तर:
(क) आज
(ख) धीरे-धीरे
(ग) इतना
(घ) वहाँ
(ङ) सुबह
(च) रुक-रुक
(छ) धीरे-धीरे
(ज) रात भर
(झ) किसी से
(ज) आज।

2. निम्नलिखित वाक्यों में से सम्बन्ध बोधक शब्द छाँटो

प्रश्न 1.
(क) तुम्हारे अतिरिक्त यहाँ कोई नहीं है।
(ख) गाँव से परे मठ में एक पुजारी रहता था।
(ग) मैं अध्यापक के विरुद्ध गवाही नहीं दूंगा।
(घ) पेड़ के नीचे छाया का आनंद लो।
उत्तर:
(क) तुम्हारे अतिरिक्त,
(ख) परे,
(ग) के विरुद्ध
(घ) नीचे।

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

3. निम्नलिखित वाक्यों में समुच्चय बोधक (योजक) शब्द छाँटो

प्रश्न 1.
(क) नित्य भजन कीजिए, ताकि मन शांत रहे।
(ख) योगेश और अवधेश दोनों साथी हैं।
(ग) रवि गाता ही नहीं, अपितु नाचता भी है।
(घ) यदि इस समय ओले पड़े, तो फसल नष्ट हो जाएगी।
(ङ) जो करेगा सो भरेगा।
(च) मेरे लिए जैसा रमेश वैसे ही तुम।
उत्तर:
(क) ताकि,
(ख) और,
(ग) अपितु,
(घ) यदि, तो,
(ङ) जो, सो,
(च) जैसा, वैसे।

4. निम्नलिखित वाक्यों में से विस्मयादि बोधक शब्द छाँटो

प्रश्न 1.
(क) छिः छिः मोहिनी ! तुम कितनी गन्दी हो।
(ख) ओह, कितना बड़ा साँप है।
(ग) हाय ! हाय ! दुष्ट पुत्र ने मुझे बर्बाद कर दिया।
(घ) शाबाशं ! कैप्टन तुम्हारी टीम जीत गई।
(ङ) वाह! कितना सुन्दर दृश्य है।
उत्तर:
(क) छिः छिः
(ख) ओह !
(ग) हाय ! हाय !
(घ) शाबाश
(ङ) वाह!

PSEB 8th Class Hindi Vyakaran अविकारी शब्द (अव्यय)

प्रश्न 2.
‘ओह’ शब्द को विस्मयादिबोधक वाक्य में प्रयोग कीजिए।
उत्तर:
ओह ! यह क्या हुआ।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

Punjab State Board PSEB 12th Class Hindi Book Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 12 Hindi Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

Hindi Guide for Class 12 PSEB शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ Textbook Questions and Answers

(क) लगभग 40 शब्दों में उत्तर दो:

प्रश्न 1.
‘चलना हमारा काम है’ कविता आशा और उत्साह की कविता है-स्पष्ट करें।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता में कवि ने गतिशीलता को ही जीवन माना है। स्थिरता को उसने मृत्यु समान माना है। गतिशील जीवन ही जीवन पथ में आने वाली बाधाओं को पार कर आगे बढ़ने की हिम्मत रखता है। जब व्यक्ति के पैरों में चलने की शक्ति है तो वह किनारे पर खड़ा क्यों देखता रहे । जीवन में सुख-दुःख, आशा-निराशा तो आते ही रहते हैं किन्तु जीवन रुकना नहीं चाहिए। स्पष्ट है कि कविता में आशा और उत्साह बनाए रखने की बात कही गई है।

प्रश्न 2.
‘चलना हमारा काम है’ कविता का सार लिखो।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता में गतिशीलता को जीवन और स्थिरता को मृत्यु बताया गया है। गतिशील जीवन में बाधाओं को पार कर आगे बढ़ने की हिम्मत होती है। कवि कहते हैं कि जब मेरे पैरों में चलने की शक्ति है तो मैं दूर खड़ा क्यों देखता रहूँ। जब तक मैं अपनी मंज़िल न पा लूँ मैं रुकूँगा नहीं। जीवन में सुख-दुःख तो आते ही रहते हैं किन्तु भाग्य को दोष देकर मुझे रुकना नहीं है चलते ही जाना है। भले ही जीवन की इस यात्रा में कुछ लोग रास्ते से ही लौट गए किंतु जीवन तो निरंतर चलता ही रहता है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

प्रश्न 3.
‘मानव बनो, मानव ज़रा’ कविता का शीर्षक क्या सन्देश देता है? स्पष्ट करें।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता का शीर्षक यह सन्देश देता है कि मानव कल्याण के लिए जियो अथवा अपना जीवन लगाओ ताकि मानवता तुम पर गर्व कर सके।

प्रश्न 4.
‘मानव बनो, मानव जरा’ कविता का सार लिखें।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता में मनुष्य को आत्मनिर्भर होने की बात कही गई है। कवि का कहना है प्यार करना और उसमें खुशामद करना तथा किसी दूसरे का आश्रय ग्रहण करना तुम्हारी भूल है, इससे कोई लाभ न होगा। न ही आँसू बहाने और न ही किसी के आगे हाथ फैलाने से कोई लाभ होगा। कष्टों में हाय तौबा करना या कराहना तुम्हें शोभा नहीं देता। अपने इन आँसुओं का सदुपयोग करते हुए विश्व के कण-कण को सींच कर हरा-भरा कर देना है। अब पछताओ मत बल्कि यदि तुम्हें जलना ही है तो अपनी भस्म से इस धरती को उपजाऊ बनाओ।

(ख) सप्रसंग व्याख्या करें:

प्रश्न 5.
मैं तो फ़कत यह जानता
जो मिट गया वह जी गया।
जो बंद कर पलकें सहज
दो घूट हँस कर पी गया।
जिसमें सुधा मिश्रित गरल, वह साकिया का जाम है
चलना हमारा काम है।
उत्तर:
कवि कहते हैं कि मैं तो केवल इतना जानता हूँ कि जो मिट जाता है वही जी जाता है। जो स्वाभाविक रूप से आँखें बन्द करके सुख-दुःख ऐसे दो घुट हँसकर पी जाता है जिसमें अमृत मिश्रित विष होता है अर्थात् सुख के साथ दुःख भी होते हैं वही वास्तव में साकी का दिया हुआ शराब का प्याला है।

प्रश्न 6.
उफ़ हाय कर देना कहीं
शोभा तुम्हें देता नहीं
इन आँसुओं से सींच कर दो
विश्व का कण-कण हरा
मानव बनो, मानव ज़रा।
उत्तर:
कवि कहते हैं कि कष्ट में कराहना-हाय तौबा करना तुम्हें शोभा नहीं देता बल्कि तुम्हें चाहिए कि अपने इन आँसुओं से सींच कर विश्व के कण-कण को हरा कर दो अर्थात् धरती का कण-कण अपनी संवेदना से भर दो। अत: हे मनुष्य ! तुम मानव बनो और ज़रा मानव बन कर देखो।

PSEB 12th Class Hindi Guide शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ Additional Questions and Answers

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
शिव मंगल सिंह ‘सुमन’ ने उच्च शिक्षा किस विश्वविद्यालय से प्राप्त की थी?
उत्तर:
काशी हिंदू विश्वविद्यालय से।

प्रश्न 2.
सुमन जी को साहित्य अकादमी पुरस्कार किस रचना पर प्राप्त हुआ था?
उत्तर:
मिट्टी की बारात पर।

प्रश्न 3.
कवि के विचार से जीवन और मृत्यु क्या है?
उत्तर:
कवि के विचार से गतिशीलता जीवन है और स्थिरता मृत्यु है।

प्रश्न 4.
इन्सान को अपने जीवन में शक्ति की प्राप्ति किससे होती है?
उत्तर:
इन्सान को गतिशील जीवन में बाधाओं को पार कर आगे बढ़ने से शक्ति प्राप्त होती है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

प्रश्न 5.
कवि के सामने तय करने के लिए कैसा रास्ता पड़ा है ?
उत्तर:
लंबा रास्ता।

प्रश्न 6.
जीवन की राह को किस तरह आसानी से काटा जा सकता है?
उत्तर:
एक-दूसरे से सुख-दुख को बांटते हुए जीवन की राह को आसानी से काटा जा सकता है।

प्रश्न 7.
जीवन की राह पर बढ़ते हुए इन्सान सदा किस से घिरा रहता है?
उत्तर:
वह निराशा से घिरा रहता है।

प्रश्न 8.
इन्सान का मूल कार्य क्या है?
उत्तर:
जीवन की राह में आगे बढ़ते जाना।

प्रश्न 9.
कवि ने दुनिया को क्या कहा है?
उत्तर:
सुंदर संसार रूपी सागर।

प्रश्न 10.
संसार में सभी को क्या सहने ही पड़ते हैं ?
उत्तर:
संसार में सभी को दु:ख सहने ही पड़ते हैं।

प्रश्न 11.
कवि पूर्णता की खोज में कहाँ-कहाँ भटकता रहा?
उत्तर:
कवि पूर्णता की खोज में दर-दर भटकता रहा।

प्रश्न 12.
जीवन की राह में सफलता की प्राप्ति किसे होती है?
उत्तर:
जीवन की राह में सफलता की प्राप्ति निरंतर आगे बढ़ने वालों को ही प्राप्त होती है।

प्रश्न 13.
कवि ने इन्सान को क्या न करने की सलाह दी है?
उत्तर:
कवि ने इन्सान को कष्टों से डरने, व्यर्थ पछताने, रोने-पीटने और निराशावादी न बनने की सलाह दी है।

वाक्य पूरे कीजिए

प्रश्न 14.
जब तक न मंजिल पा सकूँ…………
उत्तर:
तब तक न मुझे विराम है।

प्रश्न 15.
इस विशद विश्व प्रवाह में,
उत्तर:
किसको नहीं बहना पड़ा।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

प्रश्न 16.
कर दो धरा को उर्वरा,
उत्तर:
मानव बनो, मानव बनो।

हाँ-नहीं में उत्तर दीजिए

प्रश्न 17.
अपने हृदय की राख से धरती को उपजाऊ बना दो।
उत्तर:
हाँ।

प्रश्न 18.
कवि जीवन की पूर्णता के लिए दर-दर भटकता फिरा।
उत्तर:
हाँ।

प्रश्न 19.
कवि अपूर्ण जीवन लेकर कवि सब कुछ प्राप्त करता रहा।
उत्तर:
नहीं।

प्रश्न 20.
आपस में कहने-सुनने से बोझ कम नहीं होता।
उत्तर:
नहीं।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. सुमन को ‘मिट्टी की बारात’ कृति पर कौन सा पुरस्कार मिला ?
(क) साहित्य अकादमी
(ख) पद्मश्री
(ग) पद्मभूषण
(घ) पद्मविभूषण
उत्तर:
(क) साहित्य अकादमी

2. कवि को देव पुरस्कार किस काव्य संग्रह पर मिला ?
(क) आपका विश्वास
(ख) विश्वास बढ़ता ही गया
(ग) विश्वास
(घ) धूप
उत्तर:
(ख) विश्वास बढ़ता ही गया

3. कवि के अनुसार गतिशीलता क्या है ?
(क) जीवन
(ख) भाव
(ग) भावना
(घ) चलना
उत्तर:
(क) जीवन

4. कवि के अनुसार स्थिरता क्या है ?
(क) ठहरना
(ख) मृत्यु
(ग) जीवन
(घ) जीवन-मृत्यु
उत्तर:
(ख) मृत्यु

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

5. कवि के अनुसार संसार में वह किसकी खोज में दर-दर भटकता है ?
(क) पूर्णता
(ख) अपूर्णता
(ग) ईश्वर
(घ) शांति
उत्तर:
(क) पूर्णता

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ सप्रसंग व्याख्या

चलना हमारा काम है !

1. गति प्रबल पैरों में भरी
फिर क्यों रहूँ दर-दर खड़ा,
है रास्ता इतना पड़ा।
जब तक न मंज़िल पा सकूँ, तब तक न मुझे विराम है,
चलना हमारा काम है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
गति = चाल। प्रबल = बलशाली, ज़ोर की। मंज़िल = ठिकाना, लक्ष्य। विराम = रुकना, आराम।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश डॉ० शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने बताया है कि गतिशीलता जीवन है और स्थिरता मृत्यु । गतिशील जीवन में बाधाओं को लाँघते हुए आगे बढ़ने की शक्ति प्राप्त होती है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि जीवन चलते रहने का नाम है रुकने का नहीं। इसी तथ्य की व्याख्या करते हुए वे कहते हैं कि जब मेरे पैरों में चलने की बलशाली शक्ति है तो फिर मैं क्यों जीवन-पथ पर जगह-जगह रुकता रहूँ। जब मैं यह जानता हूँ कि मेरे सामने बड़ा लम्बा रास्ता पड़ा है तो फिर मैं क्यों रुकूँ। मुझे तो तब तक चलना होगा जब तक मैं अपनी मंज़िल, अपने लक्ष्य को प्राप्त न कर लूँ। मुझे रुकना नहीं है क्योंकि चलना ही हमारा काम है।

विशेष:

  1. कवि का मानना है जब तक मनुष्य को अपना लक्ष्य न प्राप्त हो जाए, उसे निरंतर प्रयत्नशील रहना चाहिए।
  2. भाषा सहज, भावपूर्ण है।
  3. उद्बोधनात्मक शैली है।
  4. अनुप्रास तथा पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।

2. कुछ कह लिया, कुछ सुन लिया,
कुछ बोझ अपना बँट गया।
अच्छा हुआ तुम मिल गई,
कुछ रास्ता ही कट गया।
क्या राह में परिचय कहूँ, राही हमारा नाम है।
चलना हमारा काम है!

कठिन शब्दों के अर्थ:
राही = रास्ते पर चलने वाला।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ में से ली गई हैं, जिसमें कवि ने मनुष्य को निरंतर गतिमान रहने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
प्रस्तुत पंक्तियों में कवि जीवन की डगर पर चलते समय अपनी जीवन संगिनी का साथ होने की बात कह रहे हैं। कवि कहते हैं कि जीवन का रास्ता तब कटता है जब साथी मुसाफिरों से व्यक्ति कुछ अपने दिल की बात या दु:ख दर्द की बात कहे और कुछ उनके दुःख दर्द की बात सुने। इस तरह रास्ता आसानी से कट जाता है। जीवन यात्रा में मनुष्य यदि दूसरों से सुख-दुःख बाँटता हुआ चले तो रास्ता आसानी से कट जाता है। कवि अपनी प्रियतमा को सम्बोधित करते हुए कहते हैं कि अच्छा हुआ तुम मुझे मिल गईं, तुम्हारे साथ के कारण मेरा रास्ता तो सुखपूर्वक कट गया। क्या रास्ते में ही मैं अपना परिचय तुम्हें दूँ ? मेरा परिचय तो बस इतना ही समझ लो कि मैं भी तुम्हारी तरह रास्ता चलने वाला एक राही हूँ। हमें तो बस चलते ही जाना है क्योंकि चलना ही हमारा काम है।

विशेष:

  1. जीवन-संघर्ष में साथी के मिल जाने से डगर सहज हो जाती है।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। अनुप्रास अलंकार है।

3. जीवन अपूर्ण लिए हुए,
पाता कभी, खोता कभी
आशा-निराशा से घिरा
हँसता कभी रोता कभी,
गति-मति न हो अवरुद्ध, इसका ध्यान आठों याम है।
चलना हमारा काम है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
अपूर्ण जीवन = अधूरा जीवन । पाना = प्राप्त करना। खोना = गँवाना। गति-मति = चाल और बुद्धि। अवरुद्ध = रुका हुआ, बन्द। आठो याम = आठों पहर-दिन के चौबीस घंटों में आठ पहर होते हैं, हर समय।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ में से ली गई हैं, जिसमें कवि ने मनुष्य को निरंतर गतिमान रहने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि अधूरा जीवन लेकर मनुष्य कभी कुछ प्राप्त कर लेता है और कभी कुछ खो देता है। वह सदा आशा-निराशा से घिरा रहता है। कभी वह हँसता है तो कभी रोता है अर्थात् कभी उसके जीवन में खुशियाँ आती हैं तो कभी दुःख आते हैं। इन सब के होते हुए यदि आठों पहर इस बात का ध्यान रहे कि कहीं हमारी चाल या हमारी बुद्धि में कोई रुकावट न आए तभी हम जीवन रूपी मार्ग पर अच्छी तरह चल सकेंगे। क्योंकि चलते रहना ही हमारा काम है।

विशेष:

  1. मनुष्य को कभी निराश नहीं होना चाहिए।
  2. भाषा सरल, भावपूर्ण है। ओज गुण प्रेरक स्वर है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

4. इस विशद विश्व प्रवाह में,
किस को नहीं बहना पड़ा।
सुख-दुःख हमारी ही तरह
किस को नहीं सहना पड़ा।
फिर व्यर्थ क्यों कहता फिरूँ;‘मुझ पर विधाता वाम है,
चलना हमारा काम है !

कठिन शब्दों के अर्थ:
विशद = स्वच्छ, सुन्दर। विश्व-प्रवाह = संसार रूपी सागर का बहाव। व्यर्थ = बेकार में। विधाता = भाग्य। वाम = उलटा, विपरीत। – प्रसंग-प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने निरंतर गतिशील रहने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि इस सुन्दर संसार रूपी सागर के स्वच्छ प्रवाह में किस को नहीं बहना पड़ा अर्थात् जिसने संसार में जन्म लिया है उसे संसार के दुःख-सुख तो भोगने ही पड़े हैं। हमारी तरह हर किसी को दुःख सहने पड़े हैं। फिर मैं ही बेकार में यह कहता फिरूँ कि भाग्य मेरे विपरीत है अर्थात् मेरा मन्द भाग्य है। हमारा काम तो चलते ही रहना है।

विशेष:

  1. संसार में सबको सुख-दुःख सहना पड़ता है।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। रूपक तथा अनुप्रास अलंकार है।

5. मैं पूर्णता की खोज में
दर-दर भटकता ही रहा,
प्रत्येक पग पर कुछ न कुछ
रोड़ा अटकता ही रहा,
पर हो निराशा क्यों मुझे ? जीवन इसी का नाम है।
चलना हमारा काम है !

कठिन शब्दों के अर्थ:
दर-दर भटकना = जगह-जगह मारे-मारे फिरना। पग = कदम। रोड़ा अटकना = बाधा पड़ना, रुकावट पड़ना। निराश = आशा छोड़ना, ना उम्मीद होना।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने निरंतर गतिशील रहने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि मैं तो जीवन की पूर्णता की खोज में जगह-जगह मारा-मारा फिरता रहा। तब मैंने पाया कि मुझे हर कदम पर कुछ न कुछ रुकावटें आती रहीं, परन्तु इन रुकावटों से विघ्न बाधाओं से क्या मुझे निराश हो जाना चाहिए ? अर्थात् कभी नहीं क्योंकि जीवन तो इसी का नाम है। अतः हमें विघ्न बाधाओं से निराश नहीं होकर जीवन में सदा चलते रहना चाहिए क्योंकि जीवन तो चलते रहने का नाम है।

विशेष:

  1. मनुष्य को बाधाओं से घबराना नहीं चाहिए।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। पुनरुक्ति प्रकाश तथा अनुप्रास अलंकार हैं।

6. कुछ साथ में चलते रहे,
कुछ बीच ही से फिर गये,
पर गति न जीवन की रुकी,
पर जो गिर गये सो गिर गये
चलता रह शाश्वत, उसी की सफलता अभिराम है।
चलना हमारा काम है !

कठिन शब्दों के अर्थ:
फिर गये = लौट गये। शाश्वत = निरन्तर। अभिराम = सुन्दर।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने गति को जीवन माना है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं जीवन की इस यात्रा में कुछ लोग साथ-साथ चलते रहे, कुछ बीच से ही निराश-हताश होकर लौट गये परन्तु जीवन की गति कभी रुकी नहीं। जीवन-यात्रा तो निरन्तर चलती रही जो लोग मार्ग में गिर गये वह समझो गिर गये, नष्ट हो गये। किन्तु जो निरन्तर चलता रहा है उसी की सफलता सुन्दर कहलाती है। अत: चलते जाओ क्योंकि चलना ही हमारा काम है।

विशेष:

  1. जीवनपथ पर साथी से मिलते-बिछड़ते रहते हैं।
  2. भाषा सहज, सरल तथा भावपूर्ण है।

7. मैं तो फ़कत यह जानता
जो मिट गया वह जी गया
जो बन्दकर पलकें सहज
दो घूट हँसकर पी गया
जिसमें सुधा-मिश्रित गरल, वह साकिया का जाम है।
चलना हमारा काम है।

कठिन शब्दों के अर्थ:
फ़कत = केवल। सहज = स्वाभाविक रूप से। सुधा = अमृत। गरल = विष। साकिया = शराब परोसने वाली लड़की। जाम = प्याला।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘चलना हमारा काम है’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने गति को जीवन माना है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि मैं तो केवल इतना जानता हूँ कि जो मिट जाता है वही जी जाता है। जो स्वाभाविक रूप से आँखें बन्द करके सुख-दुःख ऐसे दो घुट हँसकर पी जाता है जिसमें अमृत मिश्रित विष होता है अर्थात् सुख के साथ दुःख भी होते हैं वही वास्तव में साकी का दिया हुआ शराब का प्याला है।

विशेष:

  1. कवि के कहने का तात्पर्य यह है कि जो व्यक्ति जीवन में सुख-दुःख को सहज भाव से लेता है। उसी का जीवन है।
  2. भाषा उर्दू शब्दों युक्त भावपूर्ण है।

मानव बनो, मानव ज़रा

1. है भूल करना प्यार भी
है भूल यह मनुहार भी
पर भूल है सबसे बड़ी
करना किसी का आसरा
मानव बनो, मानव ज़रा।

कठिन शब्दों के अर्थ:
मनुहार = खुशामद, चापलूसी। आसरा = सहारा, आश्रय।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश कवि शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ की कविता ‘मानव बनो, मानव जरा’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने मनुष्य को आत्म-निर्भर होने की बात कही है। कवि का मानना है कि आँसू बहाने, किसी का आश्रय ग्रहण करने या किसी के सामने हाथ फैलाने का कोई लाभ नहीं है। अगर जलना ही है तो धरती के कल्याण के लिए जलो।

व्याख्या:
कवि मनुष्य को आत्मनिर्भर बनने का संदेश देते हुए कहते हैं कि प्यार करना भी भूल है और किसी की खुशामद करना भी भूल है। परन्तु इन सबसे बड़ी भूल है किसी दूसरे का आश्रय लेना अतः हे मनुष्य ! तुम मानव बनो, ज़रा मानव बन कर देखो।

विशेष:

  1. कवि ने आत्मनिर्भर बनने की प्रेरणा दी है।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। अनुप्रास अलंकार है।

2. अब अश्रु दिखलाओ नहीं
अब हाथ फैलाओ नहीं
हुंकार कर दो एक जिससे
थरथरा जाए धरा
मानव बनो, मानव ज़रा।

कठिन शब्दों के अर्थ:
हुँकार = गर्जन। धरा = पृथ्वी।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘मानव बनो जरा’ से ली गई हैं, जिसमे कवि ने. मनुष्य का मानवतावाद का संदेश दिया है।

व्याख्या:
कवि मनुष्य को आत्मनिर्भर बनने का सन्देश देते हुए कहता है कि अब तुम आँसू बहा कर मत दिखाओ और न ही किसी के सामने हाथ फैलाओ बल्कि ऐसी गर्जना करो कि जिस से पृथ्वी काँप उठे। अतः हे मनुष्य ! तुम मानव बनो, ज़रा मानव बनकर देखो।

विशेष:

  1. मनुष्य को किसी के सम्मुख हाथ नहीं फैलाना चाहिए।
  2. भाषा सरल भावपूर्ण हैं।

3. उफ़ हाय कर देना कहीं
शोभा तुम्हें देता नहीं
इन आँसुओं से सींच कर दो
विश्व का कण-कण हरा
मानव बनो, मानव ज़रा।

कठिन शब्दों के अर्थ:
उफ़ हाय करना = कष्ट में कराह उठना।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘मानव बनो ज़रा’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने मनुष्य का मानवतावाद का संदेश दिया है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि कष्ट में कराहना-हाय तौबा करना तुम्हें शोभा नहीं देता बल्कि तुम्हें चाहिए कि अपने इन आँसुओं से सींच कर विश्व के कण-कण को हरा कर दो अर्थात् धरती का कण-कण अपनी संवेदना से भर दो। अत: हे मनुष्य ! तुम मानव बनो और ज़रा मानव बन कर देखो।

विशेष:

  1. मनुष्य को दुःख में धैर्य धारण करना चाहिए।
  2. भाषा सरल तथा भावपूर्ण है। पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 10 शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

4. अब हाथ मत अपने मलो
जलना अगर ऐसे जलो
अपने हृदय की भस्म से
कर दो धरा को उर्वरा
मानव बनो, मानव ज़रा।

कठिन शब्दों के अर्थ:
उर्वरा = उपजाऊ। हाथ मलना = पछताना।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ डॉ० शिवमंगल सिंह सुमन द्वारा रचित कविता ‘मानव बनो ज़रा’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने मनुष्य का मानवतावाद को संदेश दिया है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि अब पछताने से कोई लाभ न होगा। तुम्हें यदि जलना ही है तो अपने हृदय की भस्म से धरती को उपजाऊ बना दो अर्थात् धरती के कल्याण के लिए जलो जिस से मानवता तुम पर गर्व कर सके। अतः हे मनुष्य ! तुम मानव बनो और ज़रा मानव बनकर तो देखो।

विशेष:

  1. मनुष्य को लोककल्याण करने की प्रेरणा दे रहा है।
  2. भाषा सरल मुहावरेदार है। उद्बोधनात्मक स्वर है।

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ Summary

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ जीवन परिचय

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ जी का जीवन परिचय दीजिए।

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ का जन्म उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के झगरपुर गाँव में 16 अगस्त, सन् 1916 ई० को हुआ था। आप की आरम्भिक शिक्षा रीवां और ग्वालियर में हुई। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से आपने हिन्दी विषय में एम० ए० और डी० लिट० की उपाधियां प्राप्त की। इन्होंने हाई स्कूल के अध्यापक पद से लेकर विश्वविद्यालय के उप-कुलपति पद पर कार्य किया। सन् 1956-61 तक आपने नेपाल में भारत सरकार के सांस्कृतिक प्रतिनिधि के तौर पर कार्य किया। आपको ‘विश्वास बढ़ता ही गया’ काव्य संग्रह पर देव पुरस्कार, ‘पर आँखें नहीं भरीं’ पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा नवीन पुरस्कार, ‘मिट्टी की बारात’ पर साहित्य अकादमी पुरस्कार, तथा सोवियतलैंड नेहरू पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इनकी अन्य रचनाएँ हिल्लोक, प्रणय सृजन, जीवन के गान हैं।

शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ कविताओं का सार

चलना हमारा काम है कविता ने मनुष्य को सांसारिक जीवन में आने वाले सुख-दुःखों को समभाव से ग्रहण करते हुए निरंतर अपने लक्ष्य की ओर बढ़ने की प्रेरणा दी है क्योंकि कठिनाइयों का सामना करना ही जीवन है। कुछ साथी मिलेंगे, कुछ बिछड़ेंगे-परन्तु उत्साह और हिम्मत से आगे बढ़ते रहना चाहिए।

‘मानव बनो, मानव जरा’ कविता में कवि ने मनुष्य को आंसू बहाने, पराश्रित होने घबरा जाने के स्थान पर आत्मनिर्भर बनने का संदेश दिया है तथा संसार को संवेदनापूर्ण बनाकर लोककल्याण का मार्ग अपनाने पर बल दिया है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

Punjab State Board PSEB 12th Class Hindi Book Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 12 Hindi Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

Hindi Guide for Class 12 PSEB सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ Textbook Questions and Answers

(क) लगभग 40 शब्दों में उत्तर दें:

प्रश्न 1.
‘साँप’ कविता का उद्देश्य स्पष्ट करें।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता आधुनिक नागरिक सभ्यता पर एक तीखा व्यंग्य है। कवि के अनुसार आज का सभ्य नगर निवासी पूरी तरह आत्म केन्द्रित हो चुका है। स्वार्थपरता उस पर इस सीमा तक हावी हो चुकी है कि उसकी सहज मानवीयता पूरी तरह लुप्त हो गई है। यही नहीं उसे दूसरों को पीड़ित करने और यातना देने में विशेष सुख प्राप्त होने लगा है।

प्रश्न 2.
‘साँप’ कविता तथाकथित सभ्य व नगर समाज पर एक करारी चोट है। आप इससे कहाँ तक सहमत हैं ?
उत्तर:
हम कवि से पूर्णतः सहमत हैं क्योंकि नगर में रहने वाला तथाकथित सभ्य समाज आज इतना स्वार्थी और आत्म केन्द्रित हो गया है कि उसे किसी दुःख दर्द की परवाह ही नहीं। भौतिकवाद और नकली चेहरे का मुखौटा ओढ़े हुए वह भीतर से इतना विषैला हो गया है जितना जंगल में रहने वाला साँप वह दूसरों को उसमें से चोट पहुँचाने में जरा भी नहीं हिचकता।

प्रश्न 3.
‘जो पुल बनाएँगे’ कविता में कवि ने प्राचीन प्रतीकों के माध्यम से आज के युग सत्य को प्रकट किया है। स्पष्ट करें।
उत्तर:
कवि ने प्राचीन प्रतीकों नल-नील, श्रीराम और रावण के प्रतीकों द्वारा आज के इस सत्य का उद्घाटन किया है कि पुल बनाने वाले मजदूरों का नाम नहीं होता, नाम होता है इंजीनियर का। लड़ती सेना है नाम सरदार का होता है। वास्तविक निर्माता इतिहास के पन्नों में मिट कर रह जाता है। इतिहास में उसका कोई उल्लेख नहीं होता। नींव की ईंट की भूमिका को नज़रअंदाज कर दिया जाता है और उस नींव पर खड़े भवन को याद किया जाता है। लोग ताजमहल को याद करते हैं उसे बनाने वाले मजदूरों, कारीगरों को नहीं, बस यही कहते हैं कि इसे शाहजहाँ ने बनवाया है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

प्रश्न 4.
‘साँप’ कविता का केन्द्रीय भाव लिखें।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता में आधुनिक सभ्यता से ध्वस्त होते हुए मानव मूल्यों पर खेद व्यक्त किया गया है। आधुनिक सभ्यता में व्यक्ति स्वार्थी हो गया है जिसके कारण वह जंगली साँप की तरह एक-दूसरे को काटने और निगल जाने पर उतारू हो गया है। कवि के अनुसार इस प्रवृत्ति का आधार वर्तमान पूँजी व्यवस्था है और शोषण उसे सुरक्षित रखता है।

प्रश्न 5.
‘जो पुल बनाएँगे’ कविता का भाव अपने शब्दों में लिखो।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता में इतिहास के एक सत्य का उद्घाटन किया है कि इतिहास का वास्तविक निर्माता अनाम ही रह जाता है। नींव की ईंट की भूमिका को इतिहास नज़रअन्दाज कर देता है। ‘लड़े फौज नाम हो सरदार का’ वाली बात हो जाती

(ख) सप्रसंग व्याख्या करें:

प्रश्न 6.
साँप ! तुम सभ्य तो हुए नहीं……विष कहाँ पाया ?”
उत्तर:
कवि साँप को सम्बोधित करता हुआ कहता है कि तुम तो जंगली हो अर्थात् जंगलों में रहने वाले प्राणी हो अतः तुम अभी तक अपने को सभ्य नहीं कह सकते क्योंकि तुम्हें नगरों में बसना नहीं आया और नगरों में बसने वाले ही अपने आप को सभ्य कहलाते हैं। कवि के कहने का तात्पर्य यह है आधुनिक सभ्यता और संस्कृति के केन्द्र नगर में साँप पूरी तरह सभ्य नहीं हो सका अर्थात् साँप ने अभी तक नागरिक सभ्यता को स्वीकार नहीं किया। .. कवि साँप से पूछता है तुम सभ्य भी नहीं हुए, नगरों में बसना भी तुम्हें नहीं आया। फिर तुमने विष कहाँ से पाया है और कहाँ से दूसरों को काटने की कला सीखी ? क्योंकि ये गुण तो सभ्य कहलाने वाले शहरियों में हैं। तात्पर्य यह है कि नागरिक सभ्यता को स्वीकार किये बिना उसने कैसे शहरी जीवन की पूंजीवादी शोषण की प्रवृत्ति को पहचान लिया।

प्रश्न 7.
जो पुल बनाएँगे……..बन्दर कहलाएँगे।
उत्तर:
कवि कहते हैं कि जो लोग पुल बनाएँगे वे अवश्य ही पीछे रह जाएँगे। सेनाएँ उस पुल से पार हो जाएँगी और रावण मारे जाएँगे तथा श्रीराम विजयी होंगे। परन्तु पुल का निर्माण करने वाले नल और नील इतिहास में बन्दर ही कहलाएँगे। कवि का संकेत रामेश्वरम् में समुद्र पर बनाए गए पुल की ओर है जिसको पार कर श्रीराम की सेना ने रावण पर विजय प्राप्त की। किन्तु इतिहास में पुल निर्माता अनाम ही रह गए।

PSEB 12th Class Hindi Guide सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ Additional Questions and Answers

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
अज्ञेय जी का जन्म कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर:
7 मार्च, सन् 1911 ई० को बिहार के जिला देवरिया के ‘कसया’ में।

प्रश्न 2.
अज्ञेय जी का देहावसान कब हुआ था?
उत्तर:
4 अप्रैल, सन् 1987 में।

प्रश्न 3.
अज्ञेय का पूरा नाम लिखिए।
उत्तर:
सच्चिदानन्द हीरानंन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

प्रश्न 4.
अज्ञेय के द्वारा रचित चार रचनाओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
कितनी नावों में कितनी बार, हरी घास पर क्षणभर, बावरा अहेरी, पूर्वा।

प्रश्न 5.
अज्ञेय के दो उपन्यासों के नाम लिखिए।
उत्तर:
नदी के द्वीप, शेखर एक जीवनी।

प्रश्न 6.
‘साँप’ कविता कैसी है?
उत्तर:
प्रयोगवादी-छोटी कविता।

प्रश्न 7.
‘साँप’ कविता की दो विशेषताएं लिखिए।
उत्तर:
प्रतीकात्मक भाषा, व्यंग्यात्मक शैली।

प्रश्न 8.
कवि ने साँप के प्रतीक से क्या व्यक्त करने की कोशिश की है?
उत्तर:
आधुनिक सभ्यता से ध्वस्त होते हुए मानव-मूल्यों पर खेद की अभिव्यक्ति।

प्रश्न 9.
कवि ने व्यंग्य से किसे पहचानने की तरफ संकेत किया है?
उत्तर:
कवि ने शहरी जीवन की पूँजीवादी शोषण प्रवृत्ति को पहचानने की तरफ संकेत किया है।

प्रश्न 10.
अपने आप को सभ्य कौन कहलाना चाहता है?
उत्तर:
नगरवासी।

प्रश्न 11.
पूर्ण रूप से आत्मकेंद्रित कौन हो चुके हैं ?
उत्तर:
स्वार्थ भावों से भरे हुए नगरवासी।

प्रश्न 12.
कवि ने ‘साँप’ कविता में किस शैली का प्रयोग किया है?
उत्तर:
व्यंग्यात्मक शैली।

प्रश्न 13.
‘जो पुल बनायेंगे’ के रचयिता कौन हैं?
उत्तर:
अज्ञेय जी।

प्रश्न 14.
कवि ने ‘जो पुल बनायेंगे’ कविता में किन के प्रति अपने हृदय की पीड़ा को व्यक्त किया है?
उत्तर:
मज़दूरों और शोषितों के प्रति।

वाक्य पूरे कीजिए

प्रश्न 15.
तब कैसे सीखा डसना…………
उत्तर:
विष कहां पाया?

प्रश्न 16.
सेनाएं हो जाएंगी पार………….
उत्तर:
मारे जायेंगे रावन।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

प्रश्न 17.
जो निर्माता रहे………….
उत्तर:
इतिहास में बंदर कहलायेंगे।]

हाँ-नहीं में उत्तर दीजिए

प्रश्न 18.
साँप ने डसना और विष प्राप्त करना सीख लिया है।
उत्तर:
हाँ।

प्रश्न 19.
पुल बनाने वाले अवश्य ही पीछे रह जाएंगे।
उत्तर:
हाँ।

बोर्ड परीक्षा में पूछे गए प्रश्न

प्रश्न 1.
साँप कविता के कवि का नाम लिखें।
उत्तर:
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’।

प्रश्न 2.
कवि अज्ञेय का पूरा नाम क्या है ?
उत्तर:
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. अज्ञेय को ‘कितनी नावों में कितनी बार’ कविता पर पुरस्कार मिला ?
(क) ज्ञानपीठ
(ख) साहित्य अकादमी
(ग) पद्मश्री
(घ) पद्मभूषण।
उत्तर:
(क) ज्ञानपीठ

2. अज्ञेय किस काल के कवि माने जाते हैं ?
(क) प्रयोगवाद के
(ख) प्रगतिवाद के
(ग) छायावाद के
(घ) निराशावाद के।
उत्तर:
(क) प्रयोगवाद के

3. ‘सांप’ किस भाषा पर आधारित कविता है ?
(क) आशावाद
(ख) निराशावाद
(ग) व्यंग्य
(घ) हास्य।
उत्तर:
(ग) व्यंग्य

4. अज्ञेय को किसका प्रवर्तक कवि माना जाता है ?
(क) प्रगतिवाद का
(ख) प्रयोगवाद का
(ग) तार सप्तक का
(घ) छायावाद का।
उत्तर:
(ग) तार सप्तक का

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 9 सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

5. ‘नदी के द्वीप’ किस विधा की रचना है ?
(क) काव्य
(ख) गद्य
(ग) उपन्यास
(घ) कहानी।
उत्तर:
(ग) उपन्यास

सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ सप्रसंग व्याख्या

साँप

साँप !
तुम सभ्य तो हुए नहीं
नगर में बसना
भी तुम्हें नहीं आया
एक बात पूछू-(उत्तर दोगे?)
तब कैसे सीखा डसना
विष कहाँ पाया?

प्रसंग:
‘साँप’ कविता प्रयोगवादी कविता के प्रवर्तक अज्ञेय जी की एक छोटी कविता है जो उनके काव्य संग्रह ‘इन्द्र धनुष रौंदे हुए’ में संकलित है। इस कविता में अज्ञेय जी ने आधुनिक सभ्यता से ध्वस्त होते हुए मानव मूल्यों पर खेद व्यक्त किया है। शहरी जीवन में आधुनिकता की विकृति सभ्यता के नाम पर व्यक्ति को अकेला छोड़ती हुई, पछाड़ती हुई तेजी से फैल रही है। आज का समाज भी उसी को नवीन संस्कृति मान कर प्राचीन संस्कारों, मूल्यों और आदर्शों को नकार रहा है।
साँप का प्रतीक लेकर नये व्यक्ति की व्याख्या में अज्ञेय जी ने आधुनिक नागरिक सभ्यता की प्रवृत्ति को स्पष्ट किया है जिसका आधार पूँजीवादी व्यवस्था है और शोषण उसे सुरक्षित रखने का आधार।

व्याख्या:
कवि साँप को सम्बोधित करता हुआ कहता है कि तुम तो जंगली हो अर्थात् जंगलों में रहने वाले प्राणी हो अतः तुम अभी तक अपने को सभ्य नहीं कह सकते क्योंकि तुम्हें नगरों में बसना नहीं आया और नगरों में बसने वाले ही अपने आप को सभ्य कहलाते हैं। कवि के कहने का तात्पर्य यह है आधुनिक सभ्यता और संस्कृति के केन्द्र नगर में साँप पूरी तरह सभ्य नहीं हो सका अर्थात् साँप ने अभी तक नागरिक सभ्यता को स्वीकार नहीं किया। .. कवि साँप से पूछता है तुम सभ्य भी नहीं हुए, नगरों में बसना भी तुम्हें नहीं आया। फिर तुमने विष कहाँ से पाया है और कहाँ से दूसरों को काटने की कला सीखी ? क्योंकि ये गुण तो सभ्य कहलाने वाले शहरियों में हैं। तात्पर्य यह है कि नागरिक सभ्यता को स्वीकार किये बिना उसने कैसे शहरी जीवन की पूंजीवादी शोषण की प्रवृत्ति को पहचान लिया।

विशेष:

  1. कवि के कहने का भाव यह है कि अपने आप को सभ्य कहलाने वाला नगर निवासी पूरी तरह आत्म केन्द्रित हो चुका है। स्वार्थपरता उस पर इस सीमा तक हावी हो गयी है कि उसकी सहज मानवीयता पूर्ण रूप से लुप्त हो गई है। यही नहीं उसे तो दूसरों को पीड़ित करने और यातना देने में विशेष सुख प्राप्त होता है। इस तरह कवि ने आधुनिक सभ्यता के ध्वस्त होते हुए मानव मूल्यों पर खेद व्यक्त किया है।
  2. भाषा प्रतीकात्मक तथा भावपूर्ण है। शैली व्यंग्यात्मक है।

जो पुल बनायेंगे

जो पुल बनायेंगे
वे अनिवार्यतः
पीछे रह जायेंगे।
सेनाएं हो जायेंगी पार
मारे जायेंगे रावण
जयी होंगे राम,
जो निर्माता रहे,
इतिहास में
बन्दर कहलायेंगे।

कठिन शब्दों के अर्थ:
अनिवार्यतः = अवश्य ही, यकीनन। जयी = विजेता। निर्माता = बनाने वाले।

प्रसंग:
‘जो पुल बनायेंगे’ कविता प्रयोगवादी कवि अज्ञेय जी के काव्य संग्रह ‘पहले मैं सन्नाटा बुनता हूँ’ में संकलित है। प्रस्तुत कविता में कवि ने इतिहास के निर्माता अर्थात् नींव की ईंट के अनाम रह जाने की त्रासदी का उल्लेख किया है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि जो लोग पुल बनाएँगे वे अवश्य ही पीछे रह जाएँगे। सेनाएँ उस पुल से पार हो जाएँगी और रावण मारे जाएँगे तथा श्रीराम विजयी होंगे। परन्तु पुल का निर्माण करने वाले नल और नील इतिहास में बन्दर ही कहलाएँगे। कवि का संकेत रामेश्वरम् में समुद्र पर बनाए गए पुल की ओर है जिसको पार कर श्रीराम की सेना ने रावण पर विजय प्राप्त की। किन्तु इतिहास में पुल निर्माता अनाम ही रह गए।

विशेष:

  1. आधुनिक युग की भी यही त्रासदी है कि नींव की ईंट अर्थात् इतिहास निर्माता अनाम ही रह जाता है। आधुनिक युग में पुल बनाने वाले मजदूरों का कहीं नाम नहीं होता, नाम होता है तो इंजीनियर का।
  2. भाषा प्रतीकात्मक तथा भावपूर्ण है।

सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ Summary

सच्चिदानन्द हीरानन्द, वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ जीवन परिचय

‘अज्ञेय’ जी का जीवन परिचय दीजिए।

करतारपुर के भणोत सारस्वत ब्राह्मण परिवार से सम्बन्ध रखने वाले सच्चिदानंद का जन्म 7 मार्च, सन् 1911 ई० को बिहार के जिला देवरिया के ‘कसया’ नामक स्थान पर हुआ। वहाँ इनके पिता हीरानन्द शास्त्री पुरातत्व विभाग में काम करते थे। पिता के साथ इन्होंने अनेक प्रदेशों का भ्रमण किया। इन्होंने सन् 1925 ई० में पंजाब विश्वविद्यालय से मैट्रिक पास करके यहीं से सन् 1929 में बी० एससी० की परीक्षा पास की। एम० ए० अंग्रेज़ी में दाखिला लिया किन्तु स्वतन्त्रता युद्ध में कूद पड़ने के कारण पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी और क्रान्तिकारी साथियों के साथ पकड़े गए।

इस अवधि में ये चार वर्ष तक जेल में भी रहे और यहीं से आपने अपना साहित्यिक जीवन आरम्भ किया। अपने जीवन में आपने अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन किया और अनेक नौकरियाँ की और छोड़ी तथा देश-विदेश की कई यात्राएँ कीं।

इन्हें इनकी काव्यकृति ‘आंगन के पार. द्वार’ पर साहित्य अकादमी पुरस्कार, ‘कितनी नावों में कितनी बार’ भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार तथा इंटरनेशनल पोएट्री एवार्ड से सम्मानित किया गया था। 4 अप्रैल, सन् 1987 को अज्ञेय जी का निधन हो गया। इनकी प्रमुख काव्य रचनाएँ, हरी घास पर क्षणभर, बाबरा अहेरी, पूर्वा इन्द्रधनुष रौंदे हुए तारसप्तक हैं। शेखर एक जीवनी तथा नदी के द्वीप उनके प्रमुख उपन्यास हैं।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

Punjab State Board PSEB 12th Class Hindi Book Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 12 Hindi Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

Hindi Guide for Class 12 PSEB हरिवंशराय बच्चन Textbook Questions and Answers

(क) लगभग 40 शब्दों में उत्तर दें:

प्रश्न 1.
‘पौधों की पीढ़ियाँ’ में छोटे-छोटे सुशील और विनम्र पौधों का क्या कहना है ?
उत्तर:
बड़े बरगद के पेड़ की छत्र-छाया में रहने वाले छोटे-छोटे पौधे अपने को किस्मत वाला मानते हैं जो उन्हें बड़े पेड़ का संरक्षण मिला है। उन्हें किसी प्रकार की कोई चिन्ता नहीं है क्योंकि गर्मी, सर्दी या बरसात की सब मुसीबतें बरगद का पेड़ अपने ऊपर झेल लेता है। उसी के आसरे हम दिन काट रहे हैं। हम निश्चित हैं और सुखी हैं।

प्रश्न 2.
‘बरगद का पेड़’ किसका प्रतीक है ? स्पष्ट करें।
उत्तर:
बरगद का पेड़ बड़े-बुजुर्गों का प्रतीक है जो अपने से छोटों को, अपने परिवार को संरक्षण प्रदान करते हैं तथा उनकी मुसीबतें अपने ऊपर झेल लेते हैं।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

प्रश्न 3.
‘पौधों की पीढ़ियाँ’ युग सत्य को उद्भासित करती हैं, स्पष्ट करें।
उत्तर:
नई और पुरानी पीढ़ी में युगों से विचार भेद रहा है किंतु वर्तमान युग का सत्य यह है कि नई पीढ़ी ने विद्रोह दर्शाने के साथ-साथ पुरानी पीढ़ी के अस्तित्व को ही नकारना शुरू कर दिया है। उसे पुरानी पीढ़ी का अस्तित्व असहय लगने लगा है। इसी कारण वह पुरानी पीढ़ी को समूल नष्ट करने पर तुल गई है। युग की इस भयावह स्थिति का यथार्थ चित्र कवि ने प्रस्तुत कविता में चित्रित किया है।

प्रश्न 4.
‘मधु पात्र टूटने’ तथा ‘मंदिर के ढहने’ के द्वारा कवि क्या कहना चाहता है ?
उत्तर:
‘मधुपात्र टूटने’ के द्वारा कवि कहना चाहता है कि यदि किसी कारण से तुम्हारी कोई बहुमूल्य वस्तु खो जाती है तो उस को लेकर दु:खी होने की बजाए जो कुछ शेष बचा है उसी को काम में लाते हुए नए सिरे से निर्माण करना चाहिए। नए संसार की रचना करनी चाहिए। यही बात कवि ने मंदिर के ढहने के द्वारा कही है कि यदि तुम्हारी कल्पना, तुम्हारी भावनाओं, तुम्हारे सपनों से बना हुआ मंदिर ढह जाता है तो निराश न होकर शेष बचे ईंट, पत्थर और कंकर एकत्र कर एक नए संसार, नये मंदिर का निर्माण करना चाहिए।

प्रश्न 5.
‘अंधेरे का दीपक’ कविता का सार लिखो।
उत्तर:
प्रस्तुत कविता बच्चन जी का एक आशावादी गीत है। कवि मनुष्य को यह सन्देश देना चाहता है कि कल्पना के असफल हो जाने पर, भावनाओं और स्वप्नों के टूट जाने पर तुम्हें निराश नहीं होना चाहिए बल्कि जो कुछ भी तुम्हारे पास बचा है उसे ही संजोकर नवनिर्माण करना चाहिए। रात भले ही अन्धेरी है पर दीपक जलाकर उस अन्धकार को दूर करने से तुम्हें किस ने रोका है।

(ख) सप्रसंग व्याख्या करें:

प्रश्न 6.
कल्पना के हाथ से कमनीय …. था ।
उत्तर:
कवि कहते हैं कि माना कि रात अँधेरी है परन्तु इस अँधेरी रात में प्रकाश फैलाने के लिए दीपक जलाने से तुम्हें किस ने रोका है? मान लो कि तुम ने कल्पना में जिस सुंदर महल का निर्माण किया था और अपनी भावनाओं से जो तंबू तान दिए थे जिन्हें तुमने अपने स्वप्नों से अपनी पसंद के अनुसार सजाया था, और जो स्वर्ग में भी कठिनाई से प्राप्त अर्थात् दुर्लभ रंगों से लिप्त था। यदि वह महल, ढह जाए अर्थात् तुम्हारी कल्पना साकार नहीं होती, तुम्हारे सपने अधूरे रह जाते हैं, तो ढहे हुए उस महल के ईंट, पत्थर और कंकड़ों को जोड़ कर एक शांतिदायक कुटिया बनाना भी कब मना है ? माना कि रात अँधेरी है और अंधकार को दूर करने के लिए दीपक जलाने से तुम्हें कौन रोकता है ?

प्रश्न 7.
नहीं वक्त का जुल्म हमेशा ….. इसे समूचा।
उत्तर:
कवि वर्तमान पीढ़ी द्वारा बड़ों को समूल नष्ट करने की बात का उल्लेख करता हुआ कहता है कि हम समय के अत्याचार को सदा इसी प्रकार सहन नहीं करते जाएँगे। हम तो काँटों की आरी और कुल्हाड़ी तैयार करेंगे। फिर आप जब यहाँ आएँगे तो बरगद की डाली-डाली कटी हुई पाएँगे और यह बरगद का पेड़ जो अपने आपको बड़ा समझता है डालियों और पत्तों से रहित एक सूखे पेड़ की तरह नंगा बूचा रह जाएगा। हम इसे सारे का सारा निगल जाएँगे।

PSEB 12th Class Hindi Guide हरिवंशराय बच्चन Additional Questions and Answers

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
हरिवंशराय बच्चन’ का जन्म कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर:
27 नवंबर, सन् 1907 को इलाहाबाद में।

प्रश्न 2.
बच्चन को साहित्य अकादमी पुरस्कार किस रचना पर प्राप्त हुआ था?
उत्तर:
‘दो चट्टानों’ पर।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

प्रश्न 3.
हरिवंशराय बच्चन की दो रचनाओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
मधुशाला, मधुबाला, निशा निमंत्रण, दो चट्टानें।

प्रश्न 4.
हरिवंशराय बच्चन’ का देहावसान कब हुआ था ?
उत्तर:
सन् 2002 में।

प्रश्न 5.
‘पौधों की पीढ़ियों’ में कवि ने किस-किस के बीच अंतर दर्शाया है?
उत्तर:
पुरानी और नई पीढ़ी की विचारधारा के बीच।

प्रश्न 6.
‘बरगद का पेड़’ किसका प्रतीक है?
उत्तर:
पुरानी पीढ़ी का।

प्रश्न 7.
नई पीढ़ी के प्रतीक कौन-से हैं ?
उत्तर:
बरगद के नीचे उगे छोटे-छोटे असंतुष्ट और रुष्ट कुछ पौधे।

प्रश्न 8.
कवि के अनुसार नई पीढ़ी किस स्वभाव की है?
उत्तर:
उग्र, विद्रोही और निरादर के भाव से भरी हुई।

प्रश्न 9.
‘अंधेरे का दीपक’ कविता में कवि का स्वर कैसा है?
उत्तर:
आशावादी।

प्रश्न 10.
‘अंधेरी रात’ किसकी प्रतीक है?
उत्तर:
गरीबी, निराशा, पीड़ा, हताशा और दुःख।

प्रश्न 11.
कवि की भाषा में कैसे शब्दों के प्रयोग की अधिकता है?
उत्तर:
तत्सम और तद्भव शब्दों की।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

प्रश्न 12.
कवि ने ‘बरगद का पेड़’ कविता के माध्यम से क्या व्यक्त किया है?
उत्तर:
वर्तमान युग की भयावह स्थिति की यथार्थता।।

वाक्य पूरे कीजिए

प्रश्न 13.
छोटे-छोटे कुछ पौधे…….
उत्तर:
बड़े सुशील-विनम्र।

प्रश्न 14.
हमको बौना बना रखा..
उत्तर:
हम बड़े दुःखी हैं।

प्रश्न 15.
और निगल जाएँगे……
उत्तर:
तन हम इसे-इसे समूचा।

प्रश्न 16.
है अंधेरी रात………………………।
उत्तर:
पर दीवा जलाना कब मना है।

हाँ-नहीं में उत्तर दीजिए

प्रश्न 17.
‘अंधेरे का दीपक’ एक निराशावादी कविता है।
उत्तर:
नहीं।

प्रश्न 18.
नई-पुरानी पीढ़ियों में सदा ही भेद रहा है।
उत्तर:
हाँ।

प्रश्न 19.
बरगद का पेड़ बड़े-बुजुर्गों का प्रतीक है।
उत्तर:
हाँ।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. भारत सरकार ने बच्चन को किस मंत्रालय में हिंदी विशेषज्ञ नियुक्त किया ?
(क) भारत
(ख) स्वदेश
(ग) विदेश
(घ) श्रम
उत्तर:
(ग) विदेश

2. ‘दो चट्टानों’ पर कवि को कौन सा पुरस्कार मिला?
(क) साहित्य
(ख) साहित्य अकादमी
(ग) ज्ञानपीठ
(घ) पद्मभूषण
उत्तर:
(ख) साहित्य अकादमी

3. श्री हरिवंशराय बच्चन ने आत्मकथा कितने भागों में लिखी ?
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार
उत्तर:
(घ) चार

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

4. बच्चन को भारत सरकार ने किस अलंकार से अलंकृत किया ?
(क) पद्मभूषण
(ख) पद्मविभूषण
(ग) पद्मश्री
(घ) ज्ञानपीठ
उत्तर:
(ख) पद्मविभूषण

5. ‘अंधेरे का दीप’ कविता किस प्रकार की कविता है ?
(क) आशावादी
(ख) निराशावादी
(ग) प्रयोगवादी
(घ) प्रगतिवादी
उत्तर:
(क) आशावादी

हरिवंशराय बच्चन सप्रसंग व्याख्या

पौधों की पीढ़ियाँ कविता का सार

‘पौधों की पीढ़ियाँ’ कविता में कवि ने पुरानी और नई पीढ़ी की विचारधारा के अन्तर को स्पष्ट किया है। प्राचीन समय में बुजुर्गों की छत्रछाया को वरदान माना जाता था, जो आज अभिशाप बन गई है। बरगद के पेड़ के नीचे उगे छोटे-छोटे पौधे स्वयं को उस की छत्रछाया में समस्त विपत्तियों से सुरक्षित मानकर सौभाग्यशाली मानते हैं। इसके बाद की पीढ़ी बरगद के नीचे के पौधे स्वयं को बदकिस्मत कहते हैं क्योंकि बरगद की छाया ने उन्हें बौना बनाकर खतरों का सामना नहीं करने दिया। इसके भी बाद की पीढ़ी उदंडतापूर्वक बरगद पर आरोप लगाती है कि उन्हें छोटा रखकर ही वह बड़ा बना हुआ है, यदि वे पहले जन्म लेते तो बरगद के बड़े भाई होते। इस प्रकार वर्तमान पीढ़ी द्वारा अपने अंग्रेजों के प्रति विद्रोह को कवि ने उचित नहीं माना है।

1. देखा, एक बड़ा बरगद का पेड़ खड़ा है।
उसके नीचे हैं
छोटे-छोटे कुछ पौधे
बड़े सुशील-विनम्र
लगे मुझसे यों कहने,
“हम कितने सौभाग्यवान् हैं।
आसमान से आग बरसे, पानी बरसे,
आँधी टूटे, हमको कोई फिकर नहीं है ।
एक बड़े की वरद छत्र-छाया के नीचे
हम अपने दिन बिता रहे हैं
बड़े सुखी हैं !”

कठिन शब्दों के अर्थ:
सुशील = अच्छे स्वभाव वाले। विनम्र = विनीत, झुके हुए। आगी = आग। वरद = वर देने वाला। छत्र-छाया = आश्रय।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश छायावादोत्तर युग के कवि डॉ० हरिवंशराय बच्चन’ द्वारा लिखित काव्यकृति ‘बहुत दिन बीते’ में संकलित कविता ‘पौधों की पीढ़ियाँ’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने नई और पुरानी पीढ़ी की सोच में अन्तर को स्पष्ट किया है। नई पीढ़ी अपने बड़ों की छत्र-छाया में सुख का अनुभव करती थी जबकि नई पीढ़ी पुरानी पीढ़ी के प्रति विद्रोह करती है, उसके अस्तित्व को नकारते हुए उन्हें समूल नष्ट करने पर उतारू है।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि मैंने देखा कि एक बड़ा बरगद का पेड़ खड़ा है। उसके नीचे कुछ छोटे-छोटे पौधे उगे हैं जो बड़े अच्छे स्वभाव और विनीत भाव के थे। वे छोटे-छोटे पौधे कवि से कहने लगे कि हम कितने सौभाग्यशाली हैं कि आसमान से चाहे आग बरसे या पानी अर्थात् गर्मी की ऋतु हो या वर्षा ऋतु , आँधी तूफान आए पर हमें कोई चिंता नहीं है। क्योंकि हम एक बड़े बरगद के वृक्ष की छत्र-छाया में रह कर अपने दिन बिता रहे हैं और बड़े सुखी हैं। बरगद उन की रक्षा करता है।

विशेष:

  1. कवि के अनुसार पुराने समय में लोग किसी बड़े के आश्रय में रह कर सुख एवं सुरक्षा का आभास करते थे क्योंकि उनका मानना था कि बड़े उनकी हर हाल में रक्षा करेंगे और सुख सुविधा का ध्यान रखेंगे और रखते हैं। बड़ों के संरक्षण में रह कर वे संतुष्ट थे। छोटे बड़ों के सामने विनम्र और विनीत भाव से खड़े रहते थे तथा उनका आदर करते थे।
  2. भाषा अत्यन्त सरल तथा प्रतीकात्मक है।
  3. अनुप्रास, पुनरुक्ति प्रकाश तथा मानवीकरण अलंकार हैं।

2. देखा, एक बड़ा बरगद का पेड़ खड़ा है;
उसके नीचे हैं
छोटे-छोटे कुछ पौधे
असंतुष्ट और रुष्ट।
देखकर मुझको बोले,
“हम भी कितने बदकिस्मत हैं!
जो खतरों का नहीं सामना करते
कैसे वे ऊपर को उठ सकते हैं !”
इसी बड़े की छाया ने तो
हमको बौना बना रखा
हम बड़े दुःखी हैं।

कठिन शब्दों के अर्थ:
रुष्ट = नाराज़। बौना = छोटे कद का।।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ हरिवंश राय बच्चन द्वारा रचित कविता ‘पौधों की पीढ़ियाँ’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने नई और पुरानी पीढ़ी की बुजुर्गों के प्रति विचारधारा का विश्लेषण किया है।

व्याख्या:
कवि बदले परिवेश में नई पीढ़ी के मनोभावों को व्यक्त करता हुआ कहता है कि मैंने देखा कि बड़ा बरगद का पेड़ खड़ा है जिसके नीचे कुछ छोटे-छोटे पौधे थे जो असंतुष्ट और नाराज़ थे। कवि कहता है कि मुझे देखकर वे छोटे-छोटे पौधे कहने लगे कि हम कितने बदकिस्मत हैं जो खतरों का सामना नहीं कर सकते क्योंकि हमारे स्थान पर यह बड़ा बरगद का पेड़ सब कुछ सह लेता है। बिना संघर्ष किए तथा खतरों का सामना करके हम कैसे उन्नति कर सकते हैं, क्योंकि इसी बड़े बरगद के पेड़ की छाया ने हमें छोटे कद का बना रखा है। अतः हम बड़े दुःखी हैं क्योंकि हम कुछ नहीं कर सकते।

विशेष:

  1. कवि का भाव यह है कि नई पीढ़ी अपने बुजुर्गों से बड़ी नाराज़ है क्योंकि उन्हें लगता है कि बड़ों का संरक्षण उन की उन्नति एवं विकास में बाधक बन रहा है। बड़ों के संरक्षण में वे संघर्ष करने, खतरों का सामना करने से वंचित रह जाते हैं। कवि ने यहाँ दूसरी पीढ़ी की बात की है जो बड़ों के संरक्षण से असंतुष्ट और नाराज़ है।
  2. भाषा सरल तथा प्रतीकात्मक है।
  3. अनुप्रास, पुनरुक्ति प्रकाश तथा मानवीकरण अलंकार है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

3. देखा, एक बड़ा बरगद का पेड़ खड़ा है
उसके नीचे हैं
छोटे-छोटे कुछ पौधे
तने हुए उद्दण्ड।
देखकर मुझको गरजे,
“हमको छोटा रखकर ही
यह बड़ा बना है,
जन्म अगर हम पहले पाते
तो हम इसके अग्रज होते,
हम इसके दादा कहलाते,
इस पर छाते।”

कठिन शब्दों के अर्थ:
तने हुए = अकड़ कर खड़े हुए। उदंड = गुस्ताख, जिसके स्वर में विद्रोह झलकता हो, किसी की न मानने वाला। अग्रज = बड़े। छाते = छाया प्रदान करते।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ हरिवंशराय बच्चन द्वारा रचित कविता ‘पौधों की पीढ़ियाँ’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने नई और पुरानी पीढ़ी की विचारधारा का अन्तर प्रस्तुत किया है।

व्याख्या:
कवि वर्तमान पीढ़ी की अपने बड़ों के प्रति उदंडता का वर्णन करता हुआ कहता है कि मैंने देखा कि बरगद का बड़ा पेड़ खड़ा है, उसके नीचे छोटे-छोटे पौधे कुछ अकड़े हुए विद्रोही स्वभाव के बने हुए हैं । वे कवि को देखकर गरज कर बोले कि यह बरगद का पेड़ हमें छोटा बना कर ही बड़ा बना है। यदि हमारा जन्म भी इससे पहले हुआ होता तो हम इस के बड़े भाई अर्थात् बुजुर्ग या बड़े होते। तब हम इसके दादा कहलाते और इसे अपनी छाया प्रदान करते अर्थात् यह हमारे संरक्षण में रहता।

विशेष:

  1. कवि के अनुसार वर्तमान पीढ़ी अपने बड़ों का आदर करना तो दूर रहा वह उनके प्रति विद्रोह की भावना रखती है। उसे बड़ों का होना असह्य लगने लगा है।
  2. भाषा सरल किन्तु प्रतीकात्मक है।
  3. अनुप्रास, पुनरुक्ति प्रकाश तथा मानवीकरण अलंकार है।

4. नहीं वक्त का जुल्म हमेशा
हम यों ही सहते जाएँगे।
हम काँटो की
आरी और कुल्हाड़ी अब तैयार करेंगे,
फिर जब आप यहाँ आएँगे,
बरगद की डाली-डाली कटती पाएँगे।
ठूठ-मात्र यह रह जाएगा
नंगा-बूचा,
और निगल जाएँगे तन हम इसे समूचा।”

कठिन शब्दों के अर्थ:
जुल्म = अत्याचार । हमेशा = सदा। ढूंठ मात्र = डालियों और पत्तों से रहित सूखा पेड़। समूचा = सारा।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ हरिवंशराय बच्चन द्वारा रचित कविता ‘पौधों की पीढ़ियाँ’ से ली गई हैं, जिसमें नई और पुरानी पीढ़ी के विचारों का अन्तर स्पष्ट किया गया है।

व्याख्या:
कवि वर्तमान पीढ़ी द्वारा बड़ों को समूल नष्ट करने की बात का उल्लेख करता हुआ कहता है कि हम समय के अत्याचार को सदा इसी प्रकार सहन नहीं करते जाएँगे। हम तो काँटों की आरी और कुल्हाड़ी तैयार करेंगे। फिर आप जब यहाँ आएँगे तो बरगद की डाली-डाली कटी हुई पाएँगे और यह बरगद का पेड़ जो अपने आपको बड़ा समझता है डालियों और पत्तों से रहित एक सूखे पेड़ की तरह नंगा बूचा रह जाएगा। हम इसे सारे का सारा निगल जाएँगे।

विशेष:

  1. कवि के अनुसार वर्तमान पीढ़ी अपने बड़ों का निरादर करने पर ही नहीं तुली है बल्कि वह उन्हें समूल नष्ट करना भी चाहती है। इसीलिए वह अपनी पूर्व पीढी के प्रति विद्रोह की भावना रखती है।
  2. भाषा सरल, भावपूर्ण तथा प्रतीकात्मक है।
  3. मानवीकरण, अनुप्रास और पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।

अन्धेरे का दीपक कविता का सार

‘अन्धेरे का दीपक’ कविता में कवि का स्वर आशावादी है। वह कहता है कि यदि जीवन में तुमने कोई मधुर कल्पना की है और एक अत्यन्त सुन्दर महल बना लिया है, यदि वह टूट भी जाए तो निराश होने के स्थान पर उसी महल के ईंट, पत्थर जोड़कर नई झोंपड़ी तो बना ही सकते हो। यदि तुम्हारा बनाया सुन्दर मदिरापान का पात्र टूट जाए तो तुम अपनी ओर से निर्मल झरने का जल तो पी ही सकते हो। अन्धेरी रात में प्रकाश लाने के लिए दिया जलाने से तुम्हें कौन रोक सकता है ? इसलिए असफलताओं से निराश होने के स्थान पर फिर से प्रयास करना चाहिए। सफलता अवश्य ही मिलेगी।

1. है अँधेरी रात, पर दीवा जलाना कब मना है ?
कल्पना के हाथ से कमनीय
जो मन्दिर बना था,
भावना के हाथ ने जिसमें
वितानों को तना था,
स्वप्न ने अपने करों से
था जिसे रुचि से सँवारा
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों
से, रसों से जो सना था।
ढह गया वह तो जुटाकर
ईंट, पत्थर कंकड़ों को।
एक अपनी शांति की
कुटिया बनाना कब मना है?
है अँधेरी रात, पर दीवा जलाना कब मना है ?

कठिन शब्दों के अर्थ:
कमनीय = कोमल, सुंदर। वितान = तंबू, खेमा। करों से = हाथों से। रुचि = पसंद। दुष्प्राप्य = कठिनाई से प्राप्त होने वाला। सना = लिप्त।

प्रसंग:
प्रस्तुत पद्यांश छायावादोत्तर युग के कवि डॉ० हरिवंश राय बच्चन’ जी की काव्यकृति ‘सतरंगिनी’ में संकलित कविता ‘अंधेरे का दीपक’ में से लिया गया है। प्रस्तुत कविता में कवि ने यह संदेश दिया है कि दुःख और अवसादपूर्ण क्षणों में भी मनुष्य को आशा का दामन नहीं छोड़ना चाहिए।

व्याख्या:
कवि कहते हैं कि माना कि रात अँधेरी है परन्तु इस अँधेरी रात में प्रकाश फैलाने के लिए दीपक जलाने से तुम्हें किस ने रोका है? मान लो कि तुम ने कल्पना में जिस सुंदर महल का निर्माण किया था और अपनी भावनाओं से जो तंबू तान दिए थे जिन्हें तुमने अपने स्वप्नों से अपनी पसंद के अनुसार सजाया था, और जो स्वर्ग में भी कठिनाई से प्राप्त अर्थात् दुर्लभ रंगों से लिप्त था। यदि वह महल, ढह जाए अर्थात् तुम्हारी कल्पना साकार नहीं होती, तुम्हारे सपने अधूरे रह जाते हैं, तो ढहे हुए उस महल के ईंट, पत्थर और कंकड़ों को जोड़ कर एक शांतिदायक कुटिया बनाना भी कब मना है ? माना कि रात अँधेरी है और अंधकार को दूर करने के लिए दीपक जलाने से तुम्हें कौन रोकता है ?

विशेष:

  1. कवि के अनुसार सुंदर सपनों के महल के ढह जाने पर निराश और हताश होकर नहीं बैठ जाना चाहिए। असफलता से निराश न होकर नव निर्माण का पुनः संकल्प करके जीवन को नए ढंग से जीना चाहिए।
  2. भाषा तत्सम प्रधान, सरस तथा भावपूर्ण है।
  3. प्रश्न अलंकार तथा उद्बोधनात्मक स्वर है।

PSEB 12th Class Hindi Solutions Chapter 8 हरिवंशराय बच्चन

2. बादलों के अश्रु में धोया
गया नभ-नील नीलम
का बनाया था गया मधु
पात्र मनमोहक, मनोरम,
प्रथम ऊषा की किरण को
लालिमा-सी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती
नव घनों में चंचला, सम,
वह अगर टूटा मिलाकर
हाथ की दोनों हथेली,
एक निर्मल स्रोत से
तृष्णा बुझाना कब मना है ?
है अंधेरी रात, पर दीवा जलाना कब मना है ?

कठिन शब्दों के अर्थ:
अश्रु = आँसू। मधुपात्र = शराब पीने का प्याला। मनमोहक = मन को मोहने वाला। मनोरम = सुंदर। मदिरा = शराब। चंचला = बिजली। निर्मल= साफ, स्वच्छ । स्रोत = चश्मा, धारा। तृष्णा = प्यास।

प्रसंग:
प्रस्तुत पंक्तियाँ हरिवंश राय बच्चन द्वारा रचित कविता ‘अन्धेरे का दीपक’ से ली गई हैं, जिसमें कवि ने मनुष्य को कभी भी निराश नहीं होने का सन्देश दिया है।

व्याख्या:
कवि निराशा या असफलता मिलने पर भी निराश न होकर उत्साहित होकर फिर से नवनिर्माण की प्रेरणा देता हुआ कहता है कि यदि तुम ने बादलों के आँसुओं से धुले नीले आकाश जैसे बहुमूल्य नीलम पत्थर से बना शराब पीने का प्याला बनाया था, जो अत्यन्त मन को लुभाने वाला और सुंदर बन पड़ा था, उस प्याले में उषा की पहली किरण जैसी लाललाल शराब डाली थी; जो उस प्याले में पड़ी चमचमा रही थी जैसे नए बादलों में बिजली चमकती हो, वह प्याला यदि किसी कारणवश टूट भी जाए तो अपनी दोनों हाथों की हथेलियों की ओक बनाकर किसी साफ चश्मे से अपनी प्यास बुझाने की तो मनाही नहीं है ? माना कि रात अँधेरी है किंतु रात के अंधेरे को दूर करने के लिए दीपक जलाने से तुम्हें किसने रोका

विशेष:

  1. कवि का मानना है कि व्यक्ति को अपनी बहुमूल्य वस्तु के नष्ट होने पर दुःखी होने की बजाए जो कुछ भी पास बचा है उसी के भरोसे जिंदगी जीने का प्रयास करना चाहिए। जो कुछ नष्ट हो गया वह तो वापस नहीं आएगा अतः दुःखी न होकर पूरे उत्साह और लग्न से जीवन जीने के नए रास्ते की खोज करनी चाहिए।
  2. भाषा तत्सम प्रधान, सरस तथा भावपूर्ण है।
  3. अनुप्रास, उपमा तथा मानवीकरण अलंकार है।

हरिवंशराय बच्चन Summary

हरिवंशराय बच्चन जीवन परिचय

हरिवंश राय बच्चन का जीवन परिचय दीजिए।

श्री हरिवंश राय बच्चन का जन्म 27 नवम्बर, सन् 1907 ई० को इलाहाबाद में हुआ। इन्होंने यहीं से अंग्रेज़ी में एम०ए० किया तथा यहीं अंग्रेजी साहित्य पढ़ाते रहे। इन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पीएच०डी० की उपाधि प्राप्त की थी। इन्हें विदेश मन्त्रालय में हिन्दी-विशेषज्ञ के रूप में भारत सरकार ने नियुक्त किया था। ये राज्य सभा के भी सदस्य रहे थे। इन्हें काव्यकृति ‘दो चट्टानों’ पर साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया। भारत सरकार ने इन्हें पद्मविभूषण की उपाधि से अलंकृत किया। सन् 2002 में इनका निधन हो गया था।

बच्चन जी की प्रमुख रचनाएँ मधुशाला, मधुकलश, मधुबाला, मिलन यामिनी, निशा-निमन्त्रण, सतरंगिनी, दो चट्टानें हैं।

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Punjab State Board PSEB 9th Class English Book Solutions English Grammar Conjunctions Exercise Questions and Answers, Notes.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Fill in the blanks with appropriate Connectors :

1. Ram would have helped her ……….. he had enough money.
2. Wisdom is better ………….. riches.
3. Sita had been waiting for two hours ……….. the train arrived.
4. Many are called, ………… few are chosen.
5. I ran fast, ………… I missed the train.
6. I would rather suffer …………. apologize.
7. Wait ……………… I come back
8. Let us go to bed ………….. it is twelve.
9. I would rather die ……….. tell a lie.
10. I like her …………… she is beautiful.
Answer:
1. if 2. than 3. when 4. but 5. yet 6. than 7. until 8. as 9. than 10. because / for.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Fill in the blanks with appropriate Connectors :

1. We eat ………… we may live.
2. Men will reap ………….. they sow.
3. He ran …………. he had been shot.
4. He is …………. a rogue ……….. a fool.
5. ………….. you sow, …………. shall you reap.
Answer:
1. so that 2. what 3. though 4. either, or 5. As, so.

Rewrite each of these pairs of simple sentences as one sentence, using the Connectors given in the brackets :

1. You must start early. You will catch the train.
2. They batted badly. They won the match.
3. Their house is small. It is comfortable.
4. Sign these papers. You’ll get the loan.
5. Tell me the truth. I shall punish you.
Answer:
1. If you start early, you will catch the train.
2. Although they batted badly, they won the match.
3. Their house is small, still it is comfortable.
4. If you sign these papers, you’ll get the loan.
5 Unless you tell me the truth, I shall punish you.

Fill in the blanks with suitable Connectors given in the brackets :

1. I would have gone to the party ……….. I had been invited. (so that, although, if)
2. She went to the doctor ……. she might be cured. (therefore, because, so that)
3. I shall wait for you ……….. you return. (unless, until)
4. She is a fine player ………… she is so small. (because, although, unless)
5. The teacher punished him ………. he had broken the windowpane. (as, though)
Answer:
1. if 2. so that 3. until 4. although 5. as.

Fill in the blanks with suitable Connectors :

1. She is beautiful ………. not vain.
2. Though he is poor, ………….. he is honest.
3. He is neither an idler ……….. a gambler.
4. He had scarcely reached the school ………… it began to rain.
5. A month has passed ……….. he came here.
6. Give me water to drink ………… I shall die of thirst.
7. She is a fine player …………. she is so small.
8. I was so tired …………. I at once fell asleep.
9. Make hay ………. the sun shines.
10. He is neither hard-working ………… intelligent.
Answer:
1. but 2. yet 3. nor 4. when 5. since 6. or 7. though 8. that 9. while 10. nor.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Pick out the Subordinate Conjunctions from the following sentences :

1. Let us go to bed as it is late now.
2. He studied hard in order that he might pass.
3. He carried a stick in his hand lest he should stumble.
4. He threatened to dismiss him unless he confessed his guilt.
5. He remained silent when he heard that.
6. We never understood why he behaved in that silly way.
7. We shall leave the class as soon as you start speaking.
8. He wished to know whether I was ready to accompany him.
9. If he is here, I shall call on him.
10. He was alarmed lest he should be taken in.
Answer:
1. as 2. in order that 3. lest 4. unless 5. when 6. why. 7. as soon as 8. whether 9. If 10. lest.

Combine the following sets of sentences by using suitable Connectors :

1. It may rain. Take an umbrella.
2. Do not go out in this rain. You may catch a cold.
3. Work hard. Otherwise, you will fail.
4. It was raining hard. I stayed at home.
5. I eat. I am hungry.
6. You say so. I must believe it.
7. He is very poor. He is contented.
8. I am going to Delhi. I am expecting a merry time.
9. I did not listen to him. I failed badly.
10. You will succeed. You should work hard.
Answer:
1. Take an umbrella, as it may rain.
2. Do not go out in this rain or you may catch cold.
3. Work hard or you will fail.
4. As it was raining hard, I stayed at home.
5. I eat when I am hungry.
6. I must believe it because you say so.
7. Though he is very poor, he is contented.
8. I am going to Delhi where I expect a merry time.
9. As I did not listen to him, I failed badly.
10. If you work hard, you will succeed.

Choose the correct Conjunction given in brackets :

1. He tried hard (and, but) could not succeed.
2. He will not come (if, unless) you do not invite him.
3. He had died (before, after) the doctor came.
4. You will be late (if, unless) you hurry up.
5. You must see me (before, when) you leave for Delhi.
6. He worked hard (and, yet) he failed.
7. He is as clever (as, so) his father.
8. (Though, Even if he is my friend, I will not help him in this matter.
Answer:
1. but 2. if 3. before 4. unless 5. before 6. yet 7. as 8. Though.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. I leave my bed ………… the sun rises.
2. ……… you say so, I shall proceed in the matter.
3. ………. you walk fast, you will catch the train.
4. Work hard ……….. you may pass.
5. Walk carefully …….. you should slip.
6. She is not so wise ………. you think.
7. ……….. fast you may run, you cannot beat me in the race.
8. Though she worked hard, ……….. she could not top the list.
9. As you sow, ……… shall you reap.
10. He speaks ………… he were my officer.
Answer:
1. before 2. As 3. If 4. so that 5. lest 6. as 7. However 8. yet 9. so 10. as if.

Fill in the blanks, selecting suitable words from those given in brackets :

1. The book …………. you sent to me, is really interesting. (that, who)
2. The Chief Minister ……….. is very popular with the masses, commands a great respect. (that, who)
3. This is the lady ………. purse had been stolen. (whom, whose)
4. This is the house …….. we want to purchase. (that, who)
5. The pen ………. I like the most has been sold out. (which, who)
6. Varanasi ………. is a city of temples is a place of pilgrimage for the Hindus. (whose, which)
7. The man …………….. she disliked came to her help in her hour of misery. (who, whom)
8. The bird ……… sweet voice you heard every morning is no more.. (whose, whom)
9. Can you identify the person …….. abused you ? (whom, who)
10. The prayer song ……….. we sing every day has been composed by my father. (that, who)
Answer:
1. that 2. who 3. whose 4. that 5. which 6. which 7. whom 8. whose 9. who 10. that.

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. It is a week …….. the holidays began.
2. The crops will die ………… the rains fall.
3. Work hard ……….. you should fail.
4. You will fail ……. you do not put in proper efforts.
5. I shall be surprised ……….. you fail.
6. He took medicine ………… he might get well.
7. You may not go out ………. your work is done.
8. You can stay here ……… you wish.
9. Wait here ………. I return.
10. He went to the doctor ………. he was ill.
Answer:
1. since 2. before 3. lest 4. if 5. if 6. so that 7. until 8. as long as 9. until 10. because.

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. Leave the room ……. you will be caught.
2. Wise men love truth ……… fools shun it.
3. She was found guilty and ……. she was punished.
4. He received a prize ……. his brother was punished.
5. Don’t make a noise ……… I shall punish you.
6. He is a liar ….. a cheat.
7. Trust in God ……. do the right.
8. ……… he is wrong ……. I am wrong.
9. Ashok had no hope of success, ………. he tried.
10. John was naughty; ……. I punished him.
Answer:
1. otherwise’ 2. while 3. therefore 4. while 5. or 6. and / as well as 7. and 8. Either, or 9. yet 10. so.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Fill in the blanks selecting the proper Subordinative Conjunctions from those given in brackets :

1. Tell me ……… he has gone. (as, nowhere, because, where)
2. ……… he satisfies me, he cannot get promotion. (unless, if, because)
3. The thief ran …….. he saw the owner of the house. (as soon as, as long as, how)
4. Make hay ……. the sun shines. (while, before)
5. He was late …….. it was raining cats and dogs. (as, how, when)
6. Let us take lunch ……… it is already twelve. (as, so, while)
7. He works hard ……. he may win some position. (in order that, lest, as)
8. He is studying very hard ……… he may top the list this time. .(so that, lest, as)
9. We eat …….. we may live. (so that, because, as if )
10. He walked with care ………… he should stumble. (so that, lest, as)
Answer:
1. where 2. Unless 3. as soon as 4. while 5. as 6. as 7. in order that 8. so that 9. so that 10. lest.

Fill in the blanks with Subordinative Conjunctions :

1. He will join the meeting ……….. he is allowed to do so.
2. ……….. it was quite cold, yet she did not light a fire.
3. We eat …….. we may live.
4. The sun will shine ……. the world lasts.
5. He continued gambling ……. he lost all his money.
6. She is extremely happy …….. she has been engaged to a boy of her choice.
7. He will not pass ………… he works hard.
8. The thief was caught red-handed ……….. he was stealing a jewellery box.
Answer:
1. if 2. Though 3. so that 4. as long as 5. until 6. because 7. unless 8. when.

Join the following pairs of sentences into single sentences, using the Subordinative Conjunctions given in the brackets :

1. You must leave the room. (whether) :
You may wish it or not.

2. He is honest. (though)
He is a poor man.

3. You wish it. (since)
I shall help him.

4. He talked so much. (that)
He made himself hoarse.

5. He will succeed. (because)
He is working hard.

6. We called at his house. (as)
The clock struck four.

7. There is a will. (where)
There is a way.

8. He returned home. (after)
The rain had stopped.

9. The patient had died. (before)
The doctor came.

10. I called on him. (when)
He was at home.
Answer:
1. You must leave the room whether you wish it or not.
2. He is honest. though he is a poor man.
3. Since you wish it, I shall help him.
4. He talked so much that he made himself hoarse.
5. He will succeed because he is working hard.
6. As we called at his house, the clock struck four.
7. Where there is a will, there is a way.
8. He returned home after the rain had stopped.
9. The patient had died before the doctor came.
10. When I called on him, he was at home.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. Hardly had he gone there ……….. it started raining.
2. He is both a painter ……….. a singer.
3. Life is such a puzzle ………. cannot be solved.
4. I am so tired ….. I cannot walk.
5. He is as tired …….. you are.
6. Not only is he rich but generous ………..
7. He is not only anxious to acquire knowledge …….. eager to display it.
8. His action was either just ………. unjust.
9. Hardly had I reached the station ……… the train started.
10. Scarcely had I arrived there …….. all the visitors dispersed.
Answer:
1. when 2. and 3. as 4. that 5. as 6. also 7. but also 8. or 9. when 10. when.

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. Wait here ……… I come back.
2. I like him ……. he is honest.
3. We must eat ……. we shall die.
4. You will never pass …….. you do not work hard.
5. He failed ……….. he did not work hard.
6. He is very wise ……… he is young.
7. Either take it ……….. leave it.
8. Work hard ……….. you will fail.
9. I would rather die …….. yield.
10. I know ……… he will come.
Answer:
1. until 2. because 3. or 4. if 5. because 6. though 7. or 8. or 9. than 10. that.

Fill in the blanks with suitable Conjunctions :

1. Pinky was happy …….. she passed the test.
2. You can do much better …….. you try harder.
3. Always brush your teeth ……….. a meal.
4. I will not let you go …… you confess.
5. The children waited ……. their mother came.
6. I have been living here ……… 1990.
7. Make hay. …….. the sun shines.
8. He failed ………. he tried again.
9. Walk quickly ……….. you will miss the train.
10. Cats can climb trees …….. dogs cannot.
Answer:
1. when 2. if 3. after 4. until 5. until 6. since 7. while 8. yet 9. or / otherwise 10. while

Conjunction-

दो शब्दों, वाक्यांशों (Phrases) अथवा वाक्यों को परस्पर जोड़ने वाले शब्द को conjection कहा जाता है जैसे
1. The teacher taught Mohan and Abdul.
2. I want some pen or pencil.
3. He will take tea, but I will take milk.
4. I will try to come as soon as I can.

Conjunctions of years on lait :
1. Co-ordinate Conjunctions.
2. Correlative Conjunctions.
3. Subordinate Conjunctions.

Co-ordinate Conjunctions-समान स्थिति वाले तथा स्वतन्त्र शब्दों । वाक्यांशों । वाक्यों को मिलाने वाले शब्दों को Co-ordinate Conjunctions कहा जाता है। जैसे

1. Noun को Noun से
2. Verb को Verb से ।
3. Adjective को Adjective से
4. Adverb को Adverb से
5. Phrase को Phrase से
6. Sentence को Sentence से
Mohan as well as Sohan came to my house.
We worked and played together.
He is sad but hopeful.
He spoke loudly and clearly.
He met me in the bazaar and again at the railway station.
He worked hard, yet he failed.

साधारण प्रयोग में आने वाले कुछ Co-ordinate Conjunctions निम्नलिखित हैं
PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions 3

Correlative Conjunctions – जोड़ों के रूप में प्रयुक्त होने वाले Conjunctions को Correlative Conjunctions कहा जाता है; जैसे

1. He worked so hard that he fell ill.
2. He could neither sit nor stand.
3. He is both kind and honest.
4. Either Mohan or Sohan has done it.
5. She is not only proud but also mean

साधारण प्रयोग में आने वाले कुछ Co-ordinate Conjunctions निम्नलिखित हैं
PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions 4

Subordinate Conjunctions-जो शब्द एक या अधिक आश्रित (Subordinate) वाक्यों को प्रधान (Principal) वाक्य से जोड़े, उन्हें Subordinate Conjunctions कहा जाता है। जैसे

Principal Clause Subordinate Clause
1. I don’t think
2. I know
3. I was away
4. Tell me
5. He is the boy
if he would pass.
why he has come here.
when Radha came here.
where he lives
who beat my brother

साधारण प्रयोग में आने वाली मुख्य Subordinate Conjunctions निम्नलिखित हैं
PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions 5

The Use Of Some Conjunctions

(1) No sooner, hardly, scarcely.
No sooner के बाद सदा than का प्रयोग किया जाता है। Scarcely और Hardly के बाद when का प्रयोग किया जा सकता है।
1. No sooner did we reach the station than the train started.
2. She had hardly / scarcely heard the news when she began to weep.

(2) Unless, if.
Unless के साथ not का प्रयोग नहीं किया जा सकता क्योंकि unless = if not.
If के साथ (यदि आवश्यकता हो तो) not का प्रयोग किया जा सकता है।
1. Unless you work very hard, you can’t pass.
2. If you do not work very hard, you can’t pass.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

(3) Until (till), as long as (so long as), while.
Until (till) = उस समय तक जबकि = up to the time when
(ये शब्द point of time की ओर संकेत करते हैं।)
As long as = जितने समय तक
So long as, while = during the time that
(ये शब्द period of time की ओर संकेत करते हैं।)
यदि till | until का सम्बन्ध पहले वाक्य से हो तो प्रायः until का प्रयोग किया जाता है।
यदि till / until का सम्बन्ध पिछले वाक्य से हो तो प्रायः till का प्रयोग किया जाता है।

किन्तु till | until के प्रयोग में कोई विशेष अन्तर नहीं समझा जाता है।
1. Go straight on until you come to the post office and then turn left.
2. Until you told me, I had heard nothing of it.
3. She won’t go away till you promise to help her.
4. Let us wait till the rain stops.
5. While there is life, there is hope.
As long as there is life, there is hope.
So long as there is life, there is hope.

(4) Because, so that (in order that).
Because का प्रयोग उस समय किया जाता है जब किसी बात का कारण (reason) बताना हो।
In order that अथवा so that का प्रयोग उस समय किया जाता है जब किसी उद्देश्य (Purpose) का वर्णन करना हो।
1. He failed because he did not work hard.
2. He worked hard so that he might win a scholarship.

(5) Since, before.
जब Since का प्रयोग एक Conjunction के रूप में किया जाए तो
(i) इससे पूर्व आने वाले वाक्य में कभी भी Past Indefinite Tense का प्रयोग नहीं किया जा सकता
(ii) इसके बाद आने वाले वाक्य में सदा ही Past Indefinite Tense का प्रयोग किया जाता है।

1. Two months have passed since he came here.
2. It is two weeks since my examinations were over.
Before, if, until, unless, while, when, आदि समय-वाचक योजकों (Temporal Conjunctions) के बाद कभी भी Future Tense का प्रयोग नहीं किया जाता है यद्यपि मुख्य वाक्य (Principal Clause) Future Tense में ही हो।
1. I will help him if he comes to me.
2. The crops will die before the rains fall.
3. I shall not let you go until you pay back my money.
4. I shall give him your message when he comes here.

(6) No other तथा rather के साथ than का प्रयोग किया जाता है, न कि but का।
1. No other than Mohan did this mischief.
2. I would rather die than beg.

(7) As to = about, concerning = के सम्बन्ध में।
इसका प्रयोग वाक्य के आरम्भ में ही किया जाना चाहिए और वह भी केवल तब जब किसी बात पर बल डालना हो।
As to your brother, I will deal with him later.
निम्नलिखित वाक्य में इसका प्रयोग ग़लत है
I don’t know as to why he failed.
हमें कहना चाहिए
I don’t know why he failed.

(8) Neither …………….. nor तथा Either …………… or.
1. This book is neither useful nor cheap.
2. Either you or your friend has stolen my book.
3. You can either play or work.
4. Mona can neither see nor hear.

(9) Not only ……………… but also.
1. She is not only beautiful but intelligent also.
2. The cruel master not only lashed his servant but also got him arrested.

(10) Though ………….. yet.
1. Though he worked hard, yet he failed.
2. Though he is rich, yet he is not mean.

(11) Both …. …………. and
1. Ramesh is both handsome and sensible.
2. Both Hema and her sister were absent.

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

(12) So …………………… that.
1. He worked so hard that he won a scholarship.
2. He is so mean that you cannot expect any help from him.

(13) Such …………… as.
1. Raman is such a fool as no one likes.
2. I love such students as are hard-working.

(14) Whether ………………… or.
1. You must leave the room whether you wish it or not.
2. I am going ahead with my plans whether I succeed or fail.

(15) The same ………….. as / that.
1. It is the same kind of pen as mine.
2. This is the same man that came to my help.

(16) निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखिए

1. That का प्रयोग Direct Narration में नहीं किया जा सकता है और न ही इस का प्रयोग
Indirect Narration में किसी प्रश्न-वाचक वाक्य से पूर्व किया जा सकता है।

2. Lest के साथ auxiliary के रूप में सदा should का प्रयोग किया जाता है।
(Walk fast lest you should miss the train.)

PSEB 9th Class English Grammar Conjunctions

3. Like (= जैसा) का प्रयोग कभी भी as (= जैसा) के स्थान पर नहीं किया जा सकता है, क्योंकि
इस अर्थ में like एक Preposition है जबकि as एक Conjunction है।
1. He is like your brother.
2. He did as your brother did.